नई दिल्ली: अगले साल होने वाले आम चुनावों से पहले गैर-बीजेपी दलों को एकजुट करने के प्रयासों के बीच, लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने रविवार को कहा कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी आज नहीं तो कल विपक्षी नेताओं के बीच अपने आप स्वीकार्य हो जाएंगे. कांग्रेसी नेता ने कहा कि भारत की जनता बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए गांधी की तरफ देख रही है और आज नहीं तो कल, विपक्षी नेताओं के बीच उनकी स्वीकार्यता अंतत: होकर रहेगी. अपने इस बिन्दु के समर्थन में पूर्व केन्द्रीय मंत्री खड़गे ने सवाल किया कि गांधी को छोड़कर विपक्ष के किस नेता की पुडुचेरी से लेकर जम्मू कश्मीर तक पूरे भारत में स्वीकार्यता है?

यह पूछे जाने पर कि क्या गांधी को बड़े विपक्षी खेमे में स्वीकार्यता मिल पाएगी, उन्होंने कहा, "जब राहुल गांधी काम कर रहे हैं, हर कोई उनके काम की प्रशंसा कर रहा है. इसके चलते आज नहीं तो कल, (गांधी के नेतृत्व की) स्वत: स्वीकार्यता होगी."

यह पूछे जाने पर कि 2019 संसदीय चुनावों में विपक्ष का नेतृत्व कौन करेगा, खड़गे ने कहा कि इसका फैसला चुनाव के बाद होगा लेकिन अभी पहला काम बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सत्ता से बाहर करने के लिए सभी को एकजुट करना है. उन्होंने कहा, "हम बीजेपी को सत्ता से दूर करने में नेतृत्व करना चाहते हैं. हमारे नेता राहुल गांधी स्वाभाविक रूप से इस जंग का नेतृत्व कर रहे हैं. हम इसमें सभी का साथ चाहते हैं. हम सभी का सहयोग चाहते हैं. सभी एकसाथ आ रहे हैं. चुनाव से पहले सब कुछ सुलझ जाएगा." 

खड़गे ने कहा कि लोगों का जिस तरह से राहुल गांधी का समर्थन मिल रहा है, इससे विपक्ष के नेताओ के बीच उनका कद और बढ़ेगा. उन्होंने कहा, "इस लड़ाई में, हम बीजेपी को सत्ता से बेदखल करना चाहते हैं जिसके लिए हम सब साथ आ रहे हैं. सच्चाई यह भी है कि देश के लोग राहुल गांधी से बहुत उम्मीदें कर रहे हैं. इसलिए उनकी स्वीकार्यता अंतत: आ ही जाएगी.

खड़गे ने कहा, "हमारे नेता की स्वीकार्यता है. आज वह जहां भी जाते हैं, लोग उन्हें सुनते हैं. किस नेता की स्वीकार्यता पुडुचेरी से लेकर जम्मू-कश्मीर तक है. आप बता दीजिए. किस नेता की स्वीकार्यता पश्चिम बंगाल से लेकर गुजरात में है? मुझे एक नेता का नाम बता दीजिए."   

उन्होंने आगे कहा, "हम विपक्ष को इसके लिए दोषी नहीं ठहराते. बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए हम मिलकर लड़ना चाहते हैं क्योंकि यह गलत नीतियों को लागू कर रही है, संविधान को नष्ट कर रही है, संस्थाओं को तोड़ रही है. हमारे नेता राहुल गांधी स्वभाविक रूप से इस लड़ाई का नेतृत्व कर रहे हैं." खड़गे ने ये बयान ऐसे समय दिए हैं जब दो दिन पहले तृणमूल कांग्रेस के नेता चंदन मित्रा ने कहा था कि वर्ष 2019 लोकसभा चुनावों के बाद प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार ‘निश्चित रूप से कोई क्षेत्रीय नेता होगा क्योंकि क्षेत्रीय नेता अपने अपने क्षेत्रों में स्थापित हैं’ और ‘खेल अब बदल चुका है.’