नई दिल्ली : केरल में नन के साथ हुए बलात्कार मामले में केरल पुलिस ने बुधवार को आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ समन जारी किए हैं. पुलिस ने बिशप को 19 सितंबर को थाने में पेश होने के आदेश दिए हैं. पुलिस ने बताया कि इस मामले में बहुत सारे विरोधाभास हैं. इनकी पुष्टि करने के लिए बिशप को थाने बुलाया गया है. उधर, इस मामले में पीड़ित नन के खिलाफ की गई अभद्र टिप्पणी पर खेद प्रकट किया है. साथ ही उन्होंने कहा कि पीड़िता कोई नन नहीं है.

बता दें कि इन दिनों केरल एक नन के साथ रेप के मामले को लेकर सुर्खियों में है. यहां की एक नन ने एक चर्च के बिशप पर उसके साथ कई बार रेप करने का आरोप लगाया है. नन के साथ रेप को लेकर राज्य की ननों में रोष व्याप्त है. उन्होंने आरोपी बिशप की गिरफ्तारी को लेकर धरने-प्रदर्शन भी किए.

पीड़ित नन ने पुलिस में दर्ज कराई रिपोर्ट में बिशप पर आरोप लगाया कि उत्तर भारत के डायसिस के कैथोलिक बिशप ने चार साल पहले उसका कई बार यौन उत्पीड़न किया था. शिकायत में नन ने आरोप लगाया है कि उसका 13 बार यौन उत्पीड़न किया गया. नन ने पुलिस को बताया कि 2014 में जिले के कुरावलंगद क्षेत्र में एक अनाथालय के नजदीक एक गेस्ट हाउस में पहली बार उससे यौन शोषण किया गया. नन ने दावा किया कि उसने चर्च के अधिकारियों से इस बाबत शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.

8 सितंबर को लिखे एक बड़े पत्र में पीड़ित नन ने लिखा कि कैथलिक चर्च सिर्फ बिशपों और पादरियों की चिंता करता है. हम जानना चाहते हैं कि क्या कैनन कानून में महिलाओं और ननों को न्याय का कोई प्रावधान है?'

नन ने इस पत्र में बताया है कि कब-कब उन्हें शिकार बनाया गया और कैसे उन्हें और उनके समर्थकों को चुप कराने की कोशिशें की गईं. इस खत में यह भी आरोप लगाया है कि बिशप ने पहले दूसरी ननों का भी शोषण किया है. नन ने अपने पत्र मेंजालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर रेप करने के आरोप लगाए हैं. इस बाबत नन ने वेटिकन को भी पत्र लिखा है.

इस मामले पर ननों के बढ़ते आक्रोश को देखते हुए रविवार को डीजीपी लोकनाथ बेहरा ने मामले में पूरी जांच के लिए आईजी पुलिस को निर्देश दिए. आईजी विजय सकरे ने बताया कि आरोपी बिशप को पुलिस के सामने पेश होने के लिए समन जारी किया गया है. 19 सितंबर को उन्हें थाने में पेश होने के लिए कहा गया है. इस दौरान आरोप से पूछताछ की जाएगी. जांच के बाद ही अगल कार्रवाई की जाएगी.