लंदन : ब्रिटेन में आत्महत्या के मामलों पर लगाम कसने के लिए पहली बार एक मंत्री की नियुक्ति की गई है. यह कदम विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर उठाया गया है. इस देश में हर साल करीब 4,500 लोग अपनी जीवन लीला स्वयं समाप्त कर लेते हैं. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री जैकी डॉयल प्राइस को अतिरिक्त प्रभार दिया गया है और इससे आत्महत्या के मामलों को रोकने में मदद मिलेगी. मे ने एक बयान में बताया ‘‘इससे हम उस धब्बे को मिटा सकते हैं, जिसके चलते कई लोग चुप रह कर पीड़ा सहने के लिए बाध्य होते हैं. हम आत्महत्या रूपी त्रासदी को रोक सकते हैं. हम हमारे बच्चों को मानसिक रूप से बेहतर माहौल प्रदान कर सकते हैं.’

इस तरह की पहल करने वाला ब्रिटेन दुनिया का पहला मुल्क बन गया है. उन्होंने कहा ‘‘अगर हम अपने मानसिक स्वास्थ्य की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं तो हम अपनी सेहत पर भी ध्यान नहीं दे रहे हैं. हमें मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य, दोनों पर ही ध्यान देने की जरूरत है. न केवल हमें अपनी स्वास्थ्य प्रणालियों में सेहत पर ध्यान देना जरूरी है बल्कि कक्षाओं में, कार्यस्थलों में और समुदायों में भी सेहत पर ध्यान देना आवश्यक है.’

नये प्रभाग का नाम ‘मानसिक स्वास्थ्य, विषमताएं और आत्महत्या की रोकथाम’ है. यह प्रभाग आत्महत्या की रोकथाम संबंधी नए राष्ट्रीय प्रयास की अगुवाई करेगा. अपनी नयी भूमिका में जैकी आत्महत्या की दर कम करने तथा मदद मांगने को लेकर लोगों की झिझक दूर करने के सरकार के प्रयासों पर जोर देंगी.

ब्रिटेन में हर साल करीब 45,00 लोग आत्महत्या करते हैं. देश में 45 साल से कम उम्र के पुरूषों की मौत का एक प्रमुख कारण आत्महत्या है. जैकी ने कहा ‘‘मैं समझ सकती हूं कि आत्महत्या से परिवार और समुदाय पर कितना भयावह असर पड़ता है. स्वास्थ्य मंत्री के पद पर रहते हुए मैं ऐसे परिवारों से मिल चुकी हूं. मैं चाहूंगी कि अपनी नयी भूमिका का उपयोग मैं ऐसे लोगों की पीड़ा घटाने में कर सकूं.’