नई दिल्‍ली : देश के अलग-अलग हिस्‍सों में मौसम बदल रहा है. उत्‍तर भारत के तीन प‍हाड़ी राज्‍यों जम्‍मू-कश्‍मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्‍तराखंड के ऊंचे पहाड़ों पर बर्फबारी हुई है. इसके बाद उत्‍तर के मैदानी इलाकों में ठंड ने दस्‍तक दे दी. वहीं अगर दक्षिण भारत की बात करें तो यहां चक्रवाती तूफान तित‍ली ने कहर बरपाया है. इससे आंध्र प्रदेश में 8 और ओडिशा में एक व्‍यक्ति की मौत हुई है. आशंका जताई जा रही है कि शुक्रवार को तितली तमिलनाडु की ओर बढ़ सकता है.

चक्रवाती तूफान ‘तितली’ गुरुवार की सुबह देश के पूर्वी तट से टकराया. तूफान के चलते आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम और विजियानगरम जिलों के साथ ही ओडिशा के गजपति और गंजाम जिलों में भारी नुकसान पहुंचा है. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार चक्रवात के साथ 140-150 किलोमीटर से 165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली. ओडिशा को पार करते हुए चक्रवाती तूफान अब पश्चिम बंगाल के गंगा के किनारे वाले क्षेत्रों की ओर बढ़ रहा है और धीरे-धीरे यह कमजोर होगा.

आंध्र प्रदेश में तूफान से संबंधित अलग-अलग घटनाओं में आठ लोगों की मौत हो गई है. एसडीएमए ने बताया कि गुडिवाडा अग्रहारम गांव में 62 वर्षीय एक महिला के ऊपर पेड़ गिरने से उसकी मौत हो गई तथा श्रीकाकुलम जिले के रोतनासा गांव में एक मकान गिरने से 55 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि समुद्र में गए छह मछुआरों की भी मौत हो गई.

कोताबोम्माली (24.82 सेमी.), संथाबोम्माली (24.42 सेमी.), इच्छापुरम (23.76 सेमी.) और तेक्काली (23.46 सेमी.) के बाद पलासा, वज्रापुकोत्तुरू, नंदीगाम इलाकों में 28.02 सेमी. बारिश दर्ज की गई. मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि श्रीकाकुलम जिले के अन्य मंडलों में दो सेमी. से 13.26 सेमी. तक बारिश दर्ज की गई.

अधिकारियों ने बताया कि बेहद भीषण चक्रवाती तूफान ‘तितली’ ने ओडिशा के गोपालपुर कस्बे और आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में गुरुवार सुबह साढ़े चार से पांच बजे के बीच में दस्तक दी. तूफान बेहद भीषण था और इससे आठ जिले प्रभावित हुए जिनमें गंजम, गजपति, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक और बालासोर शामिल हैं. ओडिशा में चक्रवात के कारण गंजम, गजपति और पुरी जिलों में भारी से भारी बारिश हुई. ओडिशा के जल संसाधन सचिव पीके जेना ने बताया कि बालासोर में सबसे अधिक 117 मिमी और पारादीप में 111 मिमी बारिश दर्ज की गई.

उत्‍तर भारत में बर्फबारी
हिमाचल, लेह में हो रही बर्फबारी और ओडिशा में आए तितली तूफान ने दिल्ली के मौसम का मिजाज बदल दिया है. गुरुवार देर शाम से ही दिल्लीवालों को गर्मी से निजात मिली है. दिल्ली-एनसीआर के मौसम को देखकर लग रहा है कि जल्द ही ठंड राजधानी में दस्तक देगी. भारत मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने कहा, "शुक्रवार को आसमान में आंशिक बदली छाई रहेगी, लेकिन दोपहर तक हल्की बारिश की संभावना है." अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है. सुबह 8.30 बजे आद्र्रता का स्तर 69 फीसदी दर्ज हुआ.

मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में शुक्रवार को बारिश की संभावना जताई है. राज्य के ऊंचे इलाकों में हो रही बर्फबारी के कारण प्रशासन अलर्ट हो गया है. प्रशानिक अधिकारियों का कहना है कि बर्फबारी के कारण कई घरों में लोग फंसे हुए हैं, जिसके कारण अन्य लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है. वहीं ऊंचाई वाले इलाकों में फंसे लोगों को बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है.

यूपी के इन शहरों में भी बारिश का अलर्ट
मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर के अलावा सहारनपुर, रुड़की, मुजफ्फनगर व मुरादाबाद में भारी बारिश हो सकती है. इसको लेकर मौसम विभाग ने इन क्षेत्रों में अलर्ट जारी किया है. इसको देखते हुए विभाग ने जरूरी होने पर ही घर से निकलने की सलाह दी है. शुक्रवार को भी मौसम विभाग ने बारिश की आशंका जताई है. स्काईमेट के अनुसार, इस समय हिमाचल प्रदेश और बंगाल की खाड़ी में आए तूफान मे दिल्ली के मौसम का मिजाज बदला हुआ है. मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि आने वाले दो दिनों में दिल्ली में तेज बारिश हो सकती है.

कश्मीर के ऊंचाई वाले अधिकतर स्थानों पर ताजा बर्फबारी हुई जबकि मैदानी इलाकों में मंगलवार को बारिश हुई थी. इसके कारण श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग को यातायात के लिए बंद कर दिया गया है. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने यहां बताया कि सोनमर्ग, जोजिला दर्रा, अमरनाथ गुफा, गुलमर्ग में अफारवत, मुगल रोड और ऊंचाई वाले कई इलाकों में ताजा बर्फबारी हुई है.