भाजपा में टिकटों को लेके गदरबूद चल्लिया हेगा। जबलपुर से टिकट नहीं मिला तो धीरज पटैरिया ने इस्तीफा दे दिया। बाकी बड़े वालों की समझाइश से गौर साब का रुख नरम पड़ा है। बाकी आगे क्या होगा ये तो आने वाले चंद दिनों में पता चलेगा। उधर टिकटों को लेके भाजपा महिला युवा ब्रिगेड भी नाराज है। उधर कांग्रेस में दिग्गजों का टकराव थमता नजर आ रहा है। उम्ममीदवारों की संपत्तियों वाली खबर में खां कई बार लगता है इसमें कित्ती सच्चाई है। पोते को दुलार करते दिग्विजय सिंह की फोटू ध्यान खींचती है। एक तरफ रेवांचल में 300 की वेटिंग तो दूसरी तरफ रीवा स्पेशल खाली गई। खबर ध्यान खींचती है। उधर स्टेडियम के बाहर हाट बाजार के निर्माण का रास्ता साफ वाली खबर भी उम्दा सेट हो गई। शहर का प्रदूषण स्तर बढ़ने वाली खबर पढ़ी जाएगी। दिवाली के  पटाखों के बीच जंगल में शिकारियों पर नजर रखने वाली खबर मुकम्मल रही। भोपाल में जीका वायरस के संदिग्ध मिल रहे हैं लेकिन सर्वे कायदे से नहीं हो पा रहा।  बैरागढ़ स्टेशन पे सुविधाएं मुहैया होने वाली खबर भी यहां है।