दिल्ली में सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के दौरान मचा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. दिल्ली सरकार के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने अपने विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी को आदेश दिया है कि वह मनोज तिवारी पर एफआईआर दर्ज कराएं. जैन के मुताबिक 4 नवंबर रविवार को सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के दौरान मनोज तिवारी ने बखेड़ा खड़ा किया था.

इससे पहले सांसद मनोज तिवारी ने आप विधायक अमानतुल्लाह खान के खिलाफ पुलिस में शिकायत दी है, उन्होंने आरोप लगाया है कि खान ने उन्हें धक्का दिया. मौके पर से सामने आए वीडियो में भी अमानतुल्लाह खान मंच से तिवारी को धक्का देते हुए दिख रहे थे.

दिल्ली सरकार की तरफ से लिखा गया है कि 4 नवंबर को सिग्नेचर ब्रिज का उद्घाटन किया गया. सीएम केजरीवाल भाषण दे रहे थे इसी दौरान दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी अपने समर्थकों के साथ वहां पहुंच गए. वे समर्थकों के साथ नारे लगा रहे थे और कानून व्यवस्था भंग करने की कोशिश कर रहे थे. इसमें यह भी आरोप लगाया गया है कि मनोज तिवारी की तरफ से मंच की ओर बॉटल फेंकी जा रही थी. जब अधिकारियों ने उनसे वहां से चले जाने को कहा तो वह झगड़ पड़े. जहां पर इतने गणमान्य लोग मौजूद थे वहां इस तरह का तमाशा बनाया जा रहा था. पुलिस और प्रशासन के रोकने का कोई कोई असर नहीं हुआ, तिवारी उन्हें भी धमकाने लगे. सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन में किस तरह का बखेड़ा किया गया इसकी एक सीडी इस पत्र के साथ अटैच की जा रही है.

वहीं मनोज तिवारी ने सोमवार रात को ई-मेल के जरिए दिल्ली पुलिस में अमानतुल्लाह खान के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. बीजेपी सांसद ने अमानतुल्लाह पर जान से मारने की कोशिश, गालियां देना और धक्का देने का आरोप लगाया है. इसके अलावा उन्होंने अमानतुल्लाह की जमानत खारिज करने की अपील की है.

उन्होंने आरोप लगाया कि आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने उन्हें धक्का दिया और वह गिरते-गिरते बचे. उन्होंने अमानतुल्लाह पर जान से मारने की धमकी देने और गाली देने का भी आरोप लगाया. बाद में उन्होंने दिल्ली पुलिस को ईमेल कर अमानतुल्लाह की शिकायत की.

हंगामे पर सफाई देते हुए अमानतुल्लाह ने कहा कि जब वह (मनोज तिवारी) स्टेज पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थे, तो मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की ना कि धक्का दिया. वह जिस तरह से वहां पर बर्ताव कर रहे थे, अगर स्टेज पर आते तो मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के साथ बुरा बर्ताव करते.