प्रशासकों की समिति (सीओए) ने भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री को फटकार लगाते हुए कहा कि फैंस को यह तय करने दीजिये की यह सर्वश्रेष्ठ टीम है या नहीं. इंग्लैंड में भारतीय क्रिकेट टीम की खराब प्रदर्शन के बाद आलोचनाओं के बीच शास्त्री ने कहा था कि विदेशों में अच्छा प्रदर्शन के मामले में यह पिछले 15 सालों की यह सर्वश्रेष्ठ टीम है.

हैदराबाद में हाल में टीम मैनेजमेंट और सीओए की बैठक में रवि शास्त्री ने एक बार फिर अपनी बातों को दोहराते हुए कहा कि पिछले 15 सालों में विदेशों में प्रदर्शन के मामले में यह सर्वश्रेष्ठ टीम है जिस पर पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर और सौरव गांगुली ने तीखी प्रतिक्रिया दी.

बैठक में मौजूद एक अधिकारी ने बताया, ‘‘ शास्त्री ने कहा कि भारतीय मीडिया हमेशा अपने खिलाड़ियों की आलोचना करता है लेकिन यह टीम पिछले 15 सालों में विदेशों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली टीम है.’’

शास्त्री उस बात पर अपना पक्ष रख रहे थे जिसमें इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज में 1-3 से हार के बाद कोहली पत्रकार के सवाल पर भड़क गये थे. कोहली से जब एक पत्रकार कहा कि क्या वह कोच के विचारों से सहमत नहीं है तो उन्होंने उसे जवाब दिया, ‘‘यह आपके विचार है, शुक्रिया.’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘शास्त्री जब टीम की तारीफ कर रहे थे तभी एक सीओए सदस्य ने उन्हें बीच में रोक दिया.’’

उन्होंने बताया, ‘‘ सीओए सदस्य ने उन्हें कहा कि इस बैठक के विषय पर लौटिये और आगामी ऑस्ट्रेलिया दौरे की नीतियों पर चर्चा करिये. आप यह फैसला नहीं कर सकते कि यह विदेशों में प्रदर्शन के मामले में यह सर्वश्रेष्ठ टीम है या नहीं. लोगों को फैसला करने दीजिए.

शास्त्री और कोहली को कहा गया कि भारतीय टीम को हर जरूरी सुविधा दी जा रही है और मैदान में उसके प्रदर्शन में यह नजर आना चाहिए.

अधिकारी ने कहा, ‘‘ बैठक में एक सीनियर सदस्य ने शास्त्री-कोहली से कहा कि बीसीसीआई चाहती है कि टीम विदेशों में अच्छा प्रदर्शन करे और इसमें कुछ भी अनुचित नहीं है.’’

उन्होंने बताया, ‘‘बीसीसीआई अधिकारी ने उन्हें कहा कि आपको सब कुछ मुहैया करायी जा रही है. केन्द्रीय अनुबंध, अभ्यास की सुविधा और आप जो कुछ भी चाहते हैं. इसलिये यह न्यायोचित है कि आपके प्रदर्शन का आकलन किया जाए. ’’

बैठक में सीओए अध्यक्ष विनोद राय, डायना एडुल्जी, सीईओ राहुल जोहरी, आईपीएल सीओओ हेमांग अमीन, महाप्रबंधक (क्रिकेट संचालन) सबा करीम, कोहली, शास्त्री, रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे और मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद शामिल थे.

कोहली ने बुधवार को उस समय एक और विवादित बयान दिया. कोहली ने उन प्रशंसकों को देश छड़ने के लिए कह दिया जिन्हें अपने देश के खिलाड़ी पसंद नहीं हैं. कोहली के इस बयान से बीसीसीआई खुश नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘ यह बहुत ही गैरजिम्मेदराना बयान है. उन्हें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है. उन्हें यह समझना चाहिये कि वह भारतीय प्रशंसकों के कारण ही कमाई कर रहे है.’’

सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘‘ यह टिप्पणी उन्होंने निजी मंच या व्यापारिक पहल पर की है. उन्होंने बीसीसीआई के मंच का इस्तेमाल नहीं किया.’’