राजस्थान में चुनाव प्रचार अंतिम चरण में है और सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. राज्य की 2 बड़ी पार्टियों बीजेपी और कांग्रेस के अलावा अन्य क्षेत्रीय पार्टियां भी पूरा जोर लगा रही हैं. ऐसे में बड़ी जीत की आस लगाए हनुमान बेनीवाल को उनके हेलिकॉप्टर वाले ने ही झटका दे दिया.

किंग मेकर बनने के चक्कर में फंसे राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के नेता हनुमान बेनीवाल का आज मंगलवार का महत्वपूर्ण दिन बेकार चला गया. बेनीवाल चुनावी रैली में जाने के इंतजार में बैठे रहे लेकिन पॉयलट हेलिकॉप्टर लेकर आया ही नहीं.

बेनीवाल को मंगलवार को 5 रैलियां करनी थी. लंबे इंतजार के बाद जब हेलिकाप्टर नहीं आया तो बेनीवाल ने फोन कर इसके बारे में पूछताछ की. उन्हें बताया गया कि हेलिकॉप्टर वाले ने आने से ही मना कर दिया है और अब आगे चुनाव प्रचार करने के लिए तैयार नहीं है.

पूरे राजस्थान के दौरे पर निकले हनुमान बेनीवाल रात को जोधपुर में रात्रि विश्राम कर रहे थे और आज नागौर, चाकसू, दूदू क्षेत्रों में चुनावी सभाएं करनी थीं. बेनीवाल इतने दूर बैठे थे कि रैलियां संबोधित हो नहीं सकती थीं, लिहाजा आनन-फानन में नेताजी ने दूसरा हेलिकॉप्टर मंगाया, लेकिन तब तक दोपहर के 1 बज गए थे.

दूसरे हेलिकॉप्टर से राजस्थान में निकले राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अध्यक्ष हनुमान बेनीवाल ने आरोप लगाया कांग्रेस और बीजेपी ने मिलकर उनके हेलिकॉप्टर कंपनी को ही मैनेज कर लिया है. पिछले 2 दिनों से हेलिकॉप्टर वाली कंपनी उनके साथ मैनेज होकर खेल खेल रही थी आज तो वह भाग ही गया.  

बेनीवाल ने दावा किया कि वह इस तरह के हाथकंडों से डरने वाले नहीं है. 11 दिसंबर के बाद सारे धोखेबाजों का हिसाब कर देंगे. बेनीवाल ने कहा कि इससे पहले भी उनके हेलिकॉप्टर के लैंडिंग और टेक अप को लेकर उनको परेशान किया जाता रहा है.

हनुमान बेनीवाल इस बार विधानसभा चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस से अपनी कड़ी टक्कर बताते हैं. उनकी पार्टी इस बार राजस्थान में 57 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. माना जा रहा है कि बेनीवाल कांग्रेस की तुलना में बीजेपी को ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं.

राज्य के सियासी समीकरण कहते हैं कि जसवंत सिंह और मानवेंद्र सिंह की वजह से राजपूत पहले से ही कांग्रेस की तरफ आ गए हैं. अगर जाट वोट बैंक बेनीवाल के साथ चला जाता है तो बीजेपी को बड़ा नुकसान हो सकता है.

वहीं चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे लोगों को आगाह कर रही हैं कि हनुमान बेनीवाल कांग्रेस की बी टीम हैं. जबकि बेनीवाल कह रहे हैं कि वह राजस्थान के किंगमेकर हैं.

हालांकि राजनीति के जानकारों का मानना है कि बेनीवाल बाड़मेर को छोड़ दूसरी जगह कांग्रेस को नुकसान पहुंचा रहे हैं, जहां पर जाट कांग्रेस के साथ हैं. बेनीवाल के साथ जाट जाति के वोट हैं, इसे लेकर कांग्रेस भी आरोप लगा रही है कि हनुमान बेनीवाल बीजेपी की बी टीम हैं.

राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों में 199 सीटों पर 7 दिसंबर को मतदान होगा. एक सीट पर प्रत्याशी का निधन होने के कारण मतदान नहीं हो पाएगा. राज्य के नतीजे 11 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे.