भोपाल : मध्यप्रदेश में विधानसभा के लिए मतदान होने के बाद कांग्रेस ने पार्टी संगठन में पदाधिकारियों की नियुक्तियां शुरू कर दी हैं. नई नियुक्ति में संजीव सक्सेना को प्रदेश इकाई का महासचिव बनाया है, सक्सेना पिछले दिनों व्यापमं घोटाले में जेल में भी रहे हैं. पार्टी के प्रदेश संगठन के उपाध्यक्ष चंद्र प्रभाष शेखर की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की मंशानुसार संजीव सक्सेना को प्रदेश इकाई का महासचिव नियुक्त किया गया है.

सक्सेना व्यापमं मामले में जेल में रहे हैं. इससे पहले पार्टी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साले संजय मसानी को वारा-सिवनी से कांग्रेस का उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस हमेशा चौहान के रिश्तेदारों पर व्यापमं में शामिल होने का आरोप लगाती रही और फिर मसानी को उम्मीदवार बना दिया. पार्टी में इन फैसलों को लेकर सवाल उठ रहे हैं.

सक्सेना पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़ने की तैयारी में थे और पार्टी ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देने का वादा किया था, संभावना जताई जा रही है कि उसी वादे के मुताबिक, सक्सेना को महासचिव बनाया गया है.

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल यानी व्यापमं द्वारा मेडिकल कोर्स में प्रवेश के लिए ली गई एमपीएमटी परीक्षा एवं सरकारी नौकरियों में भर्ती के लिए ली गई परीक्षाओं में भारी धांधली हुई थी. इस घोटाले की जांच विशेष कार्य बल (एसटीएफ) कर चुकी है. वर्ष 2016 में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई ने व्यापमं घोटाले की जांच की और मुख्यमंत्री चौहान को क्लीन चिट दी है.