हर मां चाहती हैं कि उसकी आंखों का तारा सबसे सुंदर दिखें। इस‍के लिए वह अपने बच्‍चे की अच्‍छे से केयर करती है। लेकिन अगर आप चाहती हैं कि बच्‍चा हेल्‍दी हो तो तेल मसाज करना एक बेहद ही आसान तरीका है। छोटे बच्‍चों की मालिश से उनकी बोन्‍स में मजबूती आती है, बॉडी को ताकत और पोषण मिलता है। साथ ही बच्‍चे की त्‍वचा मुलायम रहती है और उसे अतिरिक्‍त नमी मिलती है जिससे स्किन में निखार आता है। इसके अलावा बच्‍चे को अच्‍छी और गहरी नींद भी आती है। इसलिए छोटे बच्‍चे की रोजाना ऑयल से मसाज करनी चाहिए।

लेकिन अक्‍सर यह बात मां को परेशान करती हैं कि वह अपने लाल की मसाज के लिए कौन से ऑयल का इस्‍तेमाल करें। वैसे तो मसाज के लिए कई प्रकार के ऑयल आते हैं और हर ऑयलl का अपना अलग फायदा है। आइए जानिए कि किन-किन ऑयल के क्या-क्या फायदे है।

गाय का शुद्ध घी
जब मेरी बेटी हुई तो मेरी दादी कहती थी कि इसकी मसाज किसी तेल से नहीं बल्कि गाय के घी से किया कर। गाय के घी से मसाज करने से बच्‍चे को ज्‍यादा ताकत मिलती है। जी हां इस मिल्‍क प्रोडक्ट का इस्तेमाल मसाज के लिये भी किया जाता है और इसके साइड इफेक्ट भी नहीं होते हैं। घी सर्दियों से बॉडी की रक्षा करता है। घी देश के ठंडे भागों में सर्दियों के दौरान विशेष रूप से इस्तेमाल किया जाता है। बच्चों को चेस्‍ट और पीठ पर मसाज करने से कफ की शिकायत दूर हो जाती है। यह बच्चों के बलगम को बाहर निकालने मे हेल्‍प करता है।

तिल का तेल
यह तेल मसाज करने के लिए काफी अच्‍छा माना जाता है। अगर आपके बच्‍चे की त्‍वचा खींच जाती है तो तिल का तेल लगाएं और उसी से मसाज करें। लेकिन यह नकली न हों, वरना इससे नुकसान भी हो सकता है। इस ऑयल को लगाने से शरीर में गर्माहट आती है। इसलिए कोशिश करें कि तिल के तेल से बच्‍चों की मालिश सिर्फ सर्दियों में ही करनी चाहिए।

बादाम का तेल
यूं तो बादाम का तेल बच्‍चे ही नहीं हर उम्र के लोगों के लिए अच्‍छा होता है। बादाम ऑयल में विटामिन ई किसी और तेल की तुलना में अधिक होता है। जिससे शरीर को ताकत मिलती है। सर्दियों में बादाम के पौष्टिक तेल से शिशु की मालिश करने से ना सिर्फ उसकी बोन्‍स मजबूत होती हैं, बल्कि उसकी स्किन भी सॉफ्ट और ग्‍लोइंग बनती है। साथ ही यह बच्‍चे के ब्रेन के लिए भी अच्‍छा होता है। मेरी दादी कहती थी कि अगर थोड़ा का बादाम रोगन यानी बादाम का तेल बच्‍चे के तालु में डाल दिया जाए तो उसका दिमाग तेज होता है।

आलिव ऑयल
जैतून का तेल अर्थात ऑलिव ऑयल एक आम तेल है, जिसे बच्चों के लिये दुनिया भर में प्रयोग किया जाता है। इसे विशेष रूप से बच्चों की मालिश करने के लिए पैक किया जाता है। माना जाता है कि जैतून के तेल से बाल बढ़ते हैं। यदि बच्‍चे के सिर पर कम बाल हों तो इस तेल से उसके सिर की मालिश कर आधे घंटे बाद उसे नहलाएं।

सरसों का तेल
बच्‍चों की मालिश के लिए पुराने समय से सरसों के तेल का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। इस तेल को सर्दियों में विशेष रूप से सबसे अच्छा माना जाता है। यह तेल बालों के लिए अच्छा है, साथ ही इसकी मालिश आपके बच्चे की स्किन इंफेक्‍शन से बचाने में हेल्‍प करता है। सरसों का तेल बॉडी को गर्म, बोन्‍स को मजबूती और सर्दी जुखाम से राहत दिलाता है।

नारियल तेल
दक्षिण में नारियल का तेल शिशु की मालिश के लिए सबसे अच्‍छा तेल माना जाता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण इंफेक्‍शन रोकने में हेल्‍प करते हैं और इसका आपके बच्चे की कोमल त्‍वचा पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। इस तेल से बच्‍चे और बडों दोनो की मालिश की जा सकती है। नारियल तेल को हल्‍का गर्म करके बॉडी मसाज करने पर स्किन, बाल और हड्डियों की हेल्थ अच्‍छी रहती है।