नई दिल्ली: 8 और 9 जनवरी को ऑल इंडिया बैंक कर्मचारी संघ और बैंक कर्मचारी फेडेरशन ऑफ इंडिया ने दो दिन के हड़ताल का आह्वान किया है. सार्वजनिक बैंकों के कुछ कर्मचारी इस राष्ट्रव्यापी हड़ताल में हिस्सा लेंगे.

All India Bank Employees Association and Bank Employees Federation of India calls for two-day strike on January 8 and 9.

— ANI (@ANI) January 5, 2019

बैंक कर्मचारियों ने सरकार की कथित कर्मचारी विरोधी नीतियों के विरोध में इस बंद का आह्वान किया है. 10 केंद्रीय श्रमिक संगठनों इस प्रस्तावित हड़ताल का समर्थन करने का निर्णय लिया है. आठ और नौ जनवरी के राष्ट्रव्यापी हड़ताल के बारे में इंडियन बैंक एसोसिएशन को ऑल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) और बैंक एम्पलाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीईएफआई) ने सूचित कर दिया है. आईडीबीआई बैंक ने इस बारे में बंबई शेयर बाजार को लिखा है.

बीएसई को बैंक ऑफ बड़ौदा ने अलग से सूचित किया है कि आठ और नौ जनवरी को एआईबीईए और बीईएफआई के हड़ताल के कारण कुछ क्षेत्रों में बैंकों की शाखाओं एवं कार्यालयों में कामकाज पर असर पड़ सकता है.

दस केंद्रीय श्रमिक संगठनों ने इस दो दिवसीय हड़ताल का आह्वान किया है. इसमें इंटक, ऐटक, एचएमएस, सीटू, एआईयूटीयूसी, एआईसीसीटीयू, यूटीयूसी, टीयूसीसी, एलपीएफ और सेवा शामिल हैं. इन्होंने केंद्र सरकार के सामने अपनी 12 मांगे रखी हैं.

इसके पहले 26 दिसंबर को भी 9 सरकारी बैंकों के लगभग 10 लाख कर्मचारी एक दिन की हड़ताल पर थे. ये लोग बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक और देना बैंक के विलय का विरोध कर रहे थे.