हड्डियों का मजबूत होना बहुत जरूरी है। कमजोर हड्डियाों की समस्या आपकी रोजमर्रा की जिंदगी को काफी प्रभावित कर सकती है। इसके कमजोर होने के पीछे सबसे प्रमुख कारण खाने की बेकार आदतें, शारीरिक व्‍यायाम की कमी, कुछ दवाओं का लगातार सेवन, अधिक धूम्रपान आदि कारण होते हैं। शोध के अनुसार, हड्डियों की कमजोरी और ऑस्‍टियोपोरोसिस, पौष्टिक आहार और शारीरिक गतिविधियों के साथ रोकी जा सकती है। इन्हें मजबूत बनाएं रखने के लिए योग सबसे अच्‍छा उपाय है।
हड्डियों को मजबूत करने के लिए योगासन
त्रिकोणासन

इस योगासन को करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं। फिर दोनों हाथों को कंधे की चौड़ाई में सीधा कर लें। अब दाई तरफ झुकते हुए हाथ को पैर के अंगुठे तक लाएं और थोड़ी देर उसी अवस्था में रहें। अब यह प्रक्रिया दूसरी तरफ से भी करें।

सेतुबंधासन
मैट पर लेट जाएं और दोनों हाथों को जमीन पर रख लें। अब पीठ के निचले हिस्से को ऊपर की तरफ धीरे-धीरे उठाएं और दोनों जांघों को एक साथ रखें। शरीर का निचला हिस्सा स्थिर रखें। 1-2 मिनट तक इसी अवस्था में रहें और सांस छोड़ते हुए सामान्य हो जाएं।

अर्धमत्स्येन्द्रासन
पैरों को सामने की ओर फैलाते हुए बैठें। फिर बाएं पैर को मोड़ें और बाएं पैर की एड़ी को दाहिने कूल्हे के पास रखें और दाहिने पैर को बाएं घुटने के ऊपर से सामने रखें। अब बाएं हाथ को दाहिने घुटने पर रखें और दाहिना हाथ पीछे रखें और कमर, कन्धों व् गर्दन को दाहिनी तरफ से मोड़ते हुए दाहिने कंधे के ऊपर से देखें। इसी अवस्था में लंबी सांस लें। दूसरी तरफ से भी एस प्रक्रिया को दोहराएं।

वृक्षासन
इस आसन को करने से रीढ़, कमर और पेल्विक हड्डी मजबूत होती है। आप सबसे पहले सीधे खड़े हों जाएं। फिर दायां पैर उठाएं और दाएं हाथ से टखना पकड़ लें। दाईं एड़ी को दोनों हाथों की सहायता से बाईं जांघ के ऊपरी भाग यानी जोड़ पर रखें। अब दाएं पांव के तलवे से जांघ को दबाएं और हथेंलियों को सिर से ऊपर प्रार्थना की मुद्रा में जोड़ें। इसी प्रक्रिया को दूसरे तरफ से करें।

उत्‍कटासन
इसे करने के लिए दीवार के निकट खड़े हो जायें और कुर्सी पर बैठने जैसी  मुद्रा आ जाएं और हाथों के सामने की तरफ सीधे कर लें। थोड़ी देर तक इसी मुद्रा में रहें और सामान्य हो जाएं।