केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के मामले में भले ही सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया हो लेकिन अभी तक ये विवाद थमा नहीं है. गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा से मुलाकात की, उनसे मिलने के बाद स्वामी ने बड़ा बयान दिया. BJP सांसद बोले कि आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक के पद से नहीं हटाया जा सकता है, सुप्रीम कोर्ट इस मसले में हमें पहले ही सबक सिखा चुका है.

आलोक वर्मा से मिलने के बाद बीजेपी सांसद ने कहा, ‘’आलोक वर्मा को केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) की सिफारिश पर नहीं हटाया जा सकता है, प्रधानमंत्री को जो सलाहें दी जा रही हैं उनपर ध्यान नहीं देना चाहिए. हमें सुप्रीम कोर्ट पहले ही सबक सिखा चुका है’’.

सुब्रमण्यम स्वामी ने एयरसेल-मैक्सिस डील को लेकर आलोक वर्मा से मुलाकात की. स्वामी का मानना है कि उन्हें पद पर रहना चाहिए, जबकि 31 जनवरी को आलोक वर्मा रिटायर हो रहे हैं. बता दें कि सुब्रमण्यम स्वामी का ये बयान उस समय आया है जब गुरुवार शाम को ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित हाई लेवल कमेटी की बैठक होनी है.

इस कमेटी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जस्टिस एके सीकरी (CJI द्वारा मनोनीत) और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल होंगे. आलोक वर्मा पर जो आरोप लगे हैं ये कमेटी उसके अनुसार उनके भविष्य पर फैसला करेंगे. ये आरोप सीवीसी की रिपोर्ट पर आधारित हैं.

बुधवार को जब इस कमेटी की बैठक हुई तो खड़गे ने मांग की थी कि उन्हें सीवीसी की रिपोर्ट सौंपी जाए और आलोक वर्मा को अपना बयान देने का मौका दिया जाए.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद बुधवार को आलोक वर्मा ने अपना पद संभाल लिया है. पद पर वापसी करते हुए उन्होंने उनकी गैरमौजूदगी में जो ट्रांसफर के फैसले लिए गए थे, उन्हें वापस लिया. आलोक वर्मा की अनुपस्थिति में नागेश्वर राव अंतरिम डायरेक्टर के तौर तैनात थे.