नई दिल्ली : दिल्ली में लोकसभा सीटों के लिए आप और कांग्रेस के बीच गठबंधन की अटकलों को दिल्ली कांग्रेस की नवनियुक्त अध्यक्ष शीला दीक्षित ने विराम लगा दिया है। उन्होंने साफ किया कि आप के साथ गठबंधन की कोई गुंजाइश नहीं है।

एक इंटरव्यू में शीला दीक्षित ने कहा कि आप के साथ काम करने का कोई संभव रास्ता नहीं है। मैंने कभी नहीं कहा कि हम आप के साथ किसी तरह का गठबंधन करेंगे। उन्होंने कहा कि मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है। हम इस तरह के किसी भी विकल्प पर विचार नहीं कर रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक आप ने भले ही दिल्ली की सभी सीटों पर अपने लोकसभा प्रभारी बना दिए हैं, लेकिन एक सीट पर ही कैंडिडेट का ऐलान किया है। इससे यह संकेत दिया जा रहा है कि अभी गठबंधन का रास्ता खुला है। आप के कुछ नेता हरियाणा और पंजाब में भी कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर बात कर रहे हैं।

बता दें कि दोनों पार्टियों के लिए गठबंधन आसान नहीं है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के कई दिग्गज  नेता गठबंधन के पक्ष में नहीं हैं। वही राजनीतिक जानकारों का कहना है कि अभी तो दिल्ली में कांग्रेस केवल सत्ता से बाहर है, AAP से गठबंधन हुआ तो उसका बिखरना भी तय है। गठबंधन का फायदा केवल आप को ही होगा, उसका वोट बैंक कटने से बच जाएगा।