नई दिल्ली : दिल्ली में इन्फ्लूएंजा ए (एच1एन1) यानी स्वाइन फ्लू के 124 नये मामले दर्ज होने के बाद शहर में इससे प्रभावित लोगों की संख्या बढ़कर 1019 हो गयी है। इस बीमारी से एक व्यक्ति की मौत भी हुई है।दिल्ली के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय द्वारा मंगलवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार शहर में सोमवार तक 895 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई। इनमें 712 वयस्क और 183 बच्चे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार वयस्कों के कम से कम 104 और बच्चों के 20 नये मामले दर्ज किये गये हैं जबकि बीमारी से एक व्यक्ति की मौत भी हो गयी है।सोमवार तक दिल्ली सरकार ने स्वाइन फ्लू से किसी के मरने की रिपोर्ट नहीं की थी लेकिन मंगलवार की रिपोर्ट में एक व्यक्ति के मरने की बात कही गयी है। हालांकि यहां केंद्र संचालित दो अस्पतालों में इस साल स्वाइन फ्लू से 13 लोगों के मरने की रिपोर्ट है। सफदरजंग अस्पताल में वरिष्ठ डॉक्टरों के अनुसार इस बार स्वाइन फ्लू से तीन लोगों के मरने की रिपोर्ट है जबकि आरएमएल अस्पताल में इस बीमारी से 10 लोगों के मरने की रिपोर्ट है।

अधिकारियों ने बताया कि आरएमएल अस्पताल में स्वाइन फ्लू से मरने वाले 10 मरीजों में से नौ दिल्ली से थे और एक व्यक्ति शहर से बाहर का था। इल्फ्लूएंजा (एच1एन1) पर राज्य स्तरीय समीक्षा बैठक के बाद दिल्ली सरकार ने हाल में कहा था कि शहर में सभी सरकारी अस्पतालों में इस बीमारी के प्रबंधन के लिये आवश्यक साजो-सामान एवं निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई किट) सहित दवाइयां उपलब्ध हैं। साथ ही एन95 मास्क भी मौजूद हैं।

हाल में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बीमारी के उपचार, प्रबंधन, टीकाकरण, पृथक व्यवस्था, जोखिम के वर्गीकरण और रोकथाम उपायों के बारे में दिशानिर्देश हर अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्रों को जारी किए। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि सभी अस्पतालों को वेंटिलेटर तैयार रखने और रोग से रोकथाम के लिये सूचना प्रसारित करने को कहा गया है। मौसमी इल्फ्लूएंजा एच1एन1 (स्वाइन फ्लू) के लिये हिंदी और अंग्रेजी में स्वास्थ्य परामर्श तैयार किया गया है और प्रमुख अखबारों में इसका प्रकाशन किया गया है।