नई दिल्ली: एक साल पहले की बात है. विकेटकीपर-बल्लेबाज दिनेश कार्तिक एक साल पहले बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 में अंतिम ओवर में 8 गेंद पर 32 रन बनाकर हीरो बन गए थे. रविवार को, कार्तिक के सामने इसी कारनामे को दोहराने की चुनौती थी लेकिन वह ऐसा न कर सके. कार्तिक न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे और निर्णायक टी-20 मैच में क्रीज पर थे. अंतिम ओवर में जीत के लिए टीम इंडिया को 16 रन चाहिए थे और भारत केवल 11 रन बना सका. इस तरह से 4 रन से भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा.

सीरीज हार के बाद कई लोग इसके लिए दिनेश कार्तिक को जिम्‍मेदार बता रहे हैं. क्‍योंकि उन्‍होंने दूसरी और तीसरी गेंद पर सिंगल नहीं लिया. हालांकि अंतिम गेंद पर उन्‍होंने सिक्‍स जरूर जड़ा, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. मैच के बाद हार का ठीकरा दिनेश पर फोड़ा. सोशल मीडिया पर उनका जमकर मजाक उड़ाया गया. यहां तक कि मुंबई इंडियंस ने भी कार्तिक पर अप्रत्यक्ष रूप से हमला बोला.

मुंबई इंडियंस ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, 'क्रुणाल पंड्या 13 गेंदों में 26 नॉट आउट और अंतिम ओवर में केवल 1 गेंद का सामना किया. हार्ड लक केपी.'

कुछ इस तरह रहा था अंतिम ओवर
आखिरी ओवर की पहली गेंद पर दिनेश कार्तिक ने दो रन लिए. दूसरी गेंद पर कोई रन नहीं मिला. ओवर की तीसरी गेंद को उन्होंने लॉन्ग ऑन की तरफ खेला, लेकिन रन नहीं लिया. लेकिन इसके बावजूद कार्तिक ने रन नहीं लिया. क्रुणाल आधी पिच तक दौड़ गए थे लेकिन जब देखा कि कार्तिक रन लेने में कोई रुचि नहीं दिखा रहे, तो वापस लौट आए. अगर कार्तिक उस गेंद पर रन ले लेते तो भारत को 3 गेंदों पर 13 रनों की जरूरत होती और दूसरे छोर पर मौजूद क्रुणाल बड़ा शॉट लगाकर मैच बना सकते थे, क्योंकि वो 12 गेंद में 25 रन बनाकर खेल रहे थे और अच्छी लय में बल्लेबाजी कर रहे थे. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया.
 
इसके बाद अगली गेंद पर दिनेश ने बड़ा शॉट खेलना चाहा, लेकिन सिर्फ एक रन ही मिल पाया. अब क्रुणाल पंड्या क्रीज पर थे. पांचवी गेंद पर पंड्या ने एक रन लिया. अब भारत को जीत के लिए 1 गेंद पर 11 रन चाहिए थे. मतलब टीम इंडिया की हार मिल गई थी. हालांकि अंतिम गेंद वाइड रही जिससे 1 रन का इजाफा हुआ और अब अंतिम गेंद पर 10 रन जीत के लिए चाहिए थे. यह असंभव था. अंतिम गेंद पर कार्तिक ने छक्का लगाया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी और टीम इंडिया की जीत का सपना बिखर चुका था.