मंजिल पे जिन्हें जाना है तूफानों से डरा नहीं करते, तूफानों से जो डरे वो मंजिल पाया नहीं करते। उत्तर पिरदेश में नई मंजिलों की तलाश में निकली कांगेस के लिए कल अहम दिन रहा। अपनी दादी के नैन-नक्श वाली प्रियंका गांधी ने यहां फुल टाइम पॉलिटिक्स में लपक एंट्री मारी। रोड में भीड़ तो जमकर आई लेकिन सियासत की कहावत हे कि मजा तो जब हे कि भीड़ वोट में भी तब्दील हो। पेले पेज पर आधे पेज के विज्ञापन के बाद प्रियंका के रोड शो को टॉप पर पूरी नफासत से नुमाया किया हे। प्रियंका के शौहर राबर्ट वाड्रा से पूछताछ की खबर को भी पैकेज में शामिल कर कंपलीट किया हे। भूपेन हजारिका के परिवार के भारत रत्न ठुकराने की खबर चौंकाती हे। बैतूल सांसद ज्योति धुर्वे जाति प्रमाण पत्र निरस्त होने की खबर पेले पेज का हक रखती हे। भोपाल फिरंट पेज पे केबल-डीटीएच पर चल्लई किचकिच को पूरे झंके-मंके के साथ नुमाया किया हे अखबार ने। भास्कर विशेष में शैलेंद्र चौहान की खबर ‘करार हुआ तीन का और लगा दिए 39 बटरफ्लाई’ वाकई में विशेष हे।