औरंगाबाद: महाराष्ट्र के औरंगाबाद की बारहवीं कक्षा की एक छात्रा ने पढ़ाई के लिए अपनी प्रतिबद्धता की नई मिसाल पेश की है. बारहवीं क्लास में पढ़ने वाली छात्रा उस वक्त अपना एग्जाम दे रही थी, जब दुल्हा उसका इंतजार कर रहा था. इस छात्रा ने दुल्हे को इंतजार करवाते हुए अपने इकोनॉमिक्स के एग्जाम को प्राथमिकता पर रखा.

20 साल की रेणुका पवार महाराष्ट्र के हरसुल गांव की रहने वाली हैं. शनिवार को एक सामूहिक विवाह समारोह में शंकर से रेणुका की शादी होनी थी. उसी दिन उसकी बारहवीं कक्षा की परीक्षा थी. रेणुका ने कहा कि उसने पहले ही कह दिया था कि शादी की तारीख इस तरह से तय की जाए कि वह एग्जाम की तारीख से अलग हो.

पिता की मौत के बाद मुश्किल समय गुजारने वालीं और गरीब परिवार से आने वालीं रेणुका ने कहा कि उसके लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है और उसने यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत की कि उसकी पढाई नहीं छूटे. शनिवार को दोपहर करीब सवा दो बजे जैसे ही वह विवाह स्थल पहुंची, वहां तीन शादियों के लिए इकट्ठे हुए लोगों ने उसका स्वागत तालियां बजाकर किया. अब रेणुका शंकर के साथ शादी के बंधन में बंध चुकी हैं.