होली भारत के बड़े त्यौहारों में से एक है। इस दिन लोग एक दूसरे को रंग लगाकर आपस में गले मिलते हैं। यह त्यौहार ना सिर्फ बच्चों को पसंद होता है, बल्कि घर के बड़े-बुजुर्ग भी इस त्यौहार का भरपूर आनंद लेते हैं। होली में जहां एक ओर रंगों की फुहार का लोग मजा लेते हैं वहीं दूसरी तरफ बिना मिठाइयों और गुजिया के बिना होली अधूरी लगती है। पहले लोग घरों में ही मिठाइयां बनाते थे लेकिन समय की कमी के कारण ज्यादातर लोग बाजार से ही बनी हुई गुजिया व मिठाई ले लेते हैं लेकिन बाजार में मौजूद मिठाइयां बहुत मिलावटी हो गई हैं जिनके सेवन से कई तरह की बीमारियां हो जाती है।
 
मिलावटी मिठाईयों से होने वाली बीमारियां
अक्सर देखा गया है कि होली के बाद डायबिटीज, पेट और स्किन से जुड़े प्रॉब्लम्स काफी बढ़ जाते हैं। वहीं दूसरी ओर लोगों को वजन बढ़ने की शिकायत रहती है। इसका कारण हाई कैलोरी फूड्स और मिलावटी मिठाईयां होती हैं।
 
लीवर को नुकसान
मिलावटी खाद्य पदार्थों के सेवन से सबसे ज्यादा नुकसान लीवर को होता है। लीवर में सूजन आ जाती है।
 
आंतो में इंफेक्शन
मिलावटी खाद्य पदार्थ खाने से आंतों में संक्रमण हो जाता है, जिसके चलते आंतों में सूजन आ जाती है और उसमें छेद हो सकता है।
 
पीलिया और कैंसर
मिलावटी मिठाई खाने से पीलिया होने की संभावना ज्यादा हो जाती है। सिंथेटिक दूध के इस्तेमाल से कैंसर होने का खतरा बढ जाता है। मिलावटी मिठाई के सेवन से फूड प्वाइजनिंग के अलावा उल्टी व दस्त भी हो सकता है।
 
खून की कमी
महिलाओं को पीरियड्स में दिक्कत हो सकती है। ज्यादा मिलावटी मिठाई खाने से खून की कमी भी हो सकती है।
 
शरीर में सूजन और दर्द
होली में मिलावटी मिठाई, पनीर व घी खाने से सिर दर्द, पेट दर्द व त्वचा रोग हो सकते हैं। मिलावटी मिठाई खाने से शरीर में सूजन हो सकती है।

ऐसे पहचानें मिलावटी मिठाई
मेवे में मिलावट की पहचान आयोडीन जांच या फिर चखकर उसके स्वाद और रंग से किया जा सकता है। सामान्य तौर पर लोग आयोडीन की जांच नहीं कर पाते लेकिन मिलावटी मावे से बचने के लिए उसे पूरी तरह जांच परख लीजिए। मिलावटी या नकली मेवे का स्वाद व रंग सामान्य से अलग और कुछ खराब होता है। मिलावटी खोवे को उंगलियों में लेकर रगडे़। अगर उसमें चिकनापन नहीं है तो समझो वह नकली है।

इन फूड्स को कहें 'नो'
होली के मौके पर लगभग हर घर में गुजिया बनाई जाती है। अगर आप बढ़ते वजन से परेशान हैं या फिर डायबिटीज के मरीज हैं तो इनसे दूर रहें।

चिप्स का सेवन भी कम मात्रा में करें। अक्सर होली के मौके पर आलू के चिप्स बनते हैं। आलू वजन और डायबिटीज दोनों बढ़ाता है।

अधिक मसाले वाले भोजन से भी दूर रहें। खासकर दही-भल्ले, पकौड़ी, टिक्की और समोसे जैसी चीजों का ज्यादा सेवन ना करें।

अगर आपके घर में होली के दिन पार्टी चलेगी और उसमें आपकी फेवरेट कोल्ड ड्रिंक भी होगी तो अपने दिल पर पत्थर रखकर इसका सेवन ना करें। ये काफी वजन बढ़ाती है।

जिन लोगों को होली के रंग पसंद नहीं होते हैं वो इस मौके पर तनाव में आ जाते हैं। आपको बता दें कि तनाव ना सिर्फ मोटापा बल्कि डायबिटीज भी बढ़ाता है।