ये ई-टेंडर घोटाला इस चुनाव में गुल खिलाएगा। आॅस्मों कंपनी के तीन डायरेक्टरों से पुलिस भोत कुछ कुबूलवा सकती है। माखनलाल की अनियमितताओं की जांच भी होगी। हो सकता है कुठियाला मियां पे नामजद एफआईआर की जाए। वोटिंग के पहले चरण की खबर कुछ ज्यादा ही मुक्तसर हो गई। इसके बरक्स विकिलीक्स वाले असांज की गिरफ्तारी वाली खबर को यहां लपक स्पेस मिला। भोपाल की हरियाली को कांक्रीट के जंगल निगल रहे हैं। साथ ही भूमिगत जलस्तर भी नीचे जा रहा है। कहां कित्ती हरियाली थी और अब कित्ती है। पूरा पेज ही समर्पित किया है पत्रिका ने। उधर हर्ष पचौरी बता रहे हैं कि तालाब के कैचमेंट एरिया में गैर प्रदूषणकारी फेक्टरियां अब नहीं लगेंगी।