सियासत के गलियारों में चल के देखते हैं, कारवां संग इनके जरा टहल के देखते हैं। नरेंद्र सिंह तोमर से लेके शिवराज सिंह चौहान और उमा भारती के इंकार के बाद आखिरकार भोपाल से भाजपा ने दिग्विजय सिंह के खिलाफ प्रज्ञा भारती को मैदानद में उतारने का मन बनाया है। हालांकि अधिक्रत ऐलान अभी होना है। बाकी देश भर में अब ये सीट चर्चा का विषय बनी रहेगी। अमेरिकी सैन्य नर्स टैमी के जैन साध्वी की कथा पढ़ी जाएगी। चुनाव आयोग की सख्ती से सुप्रीम कोर्ट खुश हुआ। ये बी कमाल हुआ साब के ईसी को खुद अपनी शक्तियों का पता नहीं था। भोपाल के धर्मेद्र शाह और उनकी पत्नी जयश्री पांच साल में पांच हजार पंछियों को बाजार से खरीद के आजाद करवा चुके हैं। भेतरीन खबर। शिवराज को एमपी के चुनाव की कमान सौंपने वाली खबर भी उम्दा रही। सुधीर निगम बता रहे हैं कि बालाघाट में कांटे की टक्कर है।