जकार्ता: इंडोनेशिया के वर्तमान राष्ट्रपति जोको 'जोकोवी' विदोदो बुधवार को देश में हुए मतदान के बाद गिनती शुरू होने पर राष्ट्रपति बनने की दौड़ में आगे चल रहे हैं. विश्व के तीसरे सबसे बड़े लोकतंत्र के अगले राष्ट्रपति के चुनाव के लिए लाखों इंडोनेशियाई लोगों ने मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगकर वोट डाले. मुख्य मुकाबला विदोदो और उनके प्रतिद्वंद्वी पूर्व जनरल प्राबोवो सुबिआंतो के बीच है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, सैफुल मुजानी रिसर्च एंड कंसल्टिंग फर्म द्वारा बताई गई पहले दौर की मतगणना के रुझानों के अनुसार, जोकोवी के नाम से लोकप्रिय विदोदो को 55.34 प्रतिशत मत मिले हैं, जबकि सुबिआंतो को 44.67 प्रतिशत मत मिले हैं.

चुनाव आयोग आधिकारिक रूप से मई में परिणामों की घोषणा करेगा
जनरल इलेक्शंस कमीशन ऑफ इंडोनेशिया (केपीयू) ने 77.5 प्रतिशत मतदान होने का अनुमान लगाया और सरकार ने बुधवार को अधिकतम मतदान सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया. चुनाव आयोग आधिकारिक रूप से मई में परिणामों की घोषणा करेगा. सुधार के वादे के साथ राष्ट्रपति बने विदोदो ने अपने कार्यकाल के दौरान सामाजिक और विकासात्मक नीतियों को प्राथमिकता दी.

सुबिआंतो के बोगोर में मतदान केंद्र पर वोट डालने के ठीक कुछ समय बाद विदोदो ने अपना वोट डाला. विदोदो ने मीडिया को बताया कि वह परिणामों के बारे में आशावादी हैं, क्योंकि उन्होंने और उनकी पार्टी ने लोगों के लिए काम किया है. इंडोनेशियाई चुनाव दुनिया के सबसे जटिल चुनावों में से एक है, क्योंकि एक ही दिन में 20,000 पोस्ट के लिए 245,000 उम्मीदवारों में से चुनाव के लिए 800,000 मतदान केंद्रों पर 19 करोड़ से अधिक मतदाताओं को वोट देने के लिए बुलाया गया है. विदेशों में रहने वाले अन्य 20 लाख इंडोनेशियाई नागरिकों द्वारा डाक मतपत्रों के जरिए वोट डालने का अनुमान है.