जकार्ता: इंडोनेशिया के जोको विडोडो ने गुरुवार को दुनिया के तीसरे बड़े लोकतंत्र के प्रमुख के तौर पर अपनी जीत सुनिश्चित बताते हुए शांति की अपील की क्योंकि उनके प्रतिद्वंद्वी पूर्व सैन्य प्रमुख ने कहा है कि देश के शीर्ष पद पर असल में उनकी जीत हुई है. विडोडो (57) ने कहा कि दुनिया भर के नेताओं ने फोन कर उन्हें उनके देश के सबसे बड़े चुनाव पर बधाई दी लेकिन कहा कि वह औपचारिक रूप से जीत की घोषणा होने का इंतजार करेंगे.

विडोडो ने कई चुनावी सर्वेक्षण का हवाला दिया, जिसमें उनकी जीत की संभावना जताई गई है. सर्वेक्षणों में उन्हें सुबिआंतो से 11 प्रतिशत अंक से आगे बताया गया है  इस तरह के सर्वेक्षण ने पूर्व के चुनावों में विश्वसनीय संकेत दिए थे. विडोडो ने संवाददाताओं से कहा कि ‘‘हम (चुनाव आयोग) केपीयू के नतीजों का इंतजार करेंगे . हालांकि, सुबिआंतो ने जकार्ता में समर्थकों से अपनी और सांदियागा उनो की जीत का दावा किया.

सुबिआंतो के कुछ समर्थकों ने शुक्रवार की नमाज के बाद जकार्ता की सबसे बड़ी मस्जिद के पास मार्च निकालने का आह्वान किया. हालांकि, जकार्ता में बृहस्पतिवार को शांति रही. नए राष्ट्रपति, सांसद और स्थानीय विधायक चुनने के लिए मुस्लिम बहुल इस देश में 19 करोड़ मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है. चुनाव में इस बार रिकार्ड 2,45,000 उम्मीदवार मैदान में उतरे.