पटना: हालही में बीजेपी से बागी होकर कांग्रेस में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा के अखिलेश यादव को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बताए जाने वाले बयान पर राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है. अब इस मामले पर शत्रुघ्न सिन्हा ने सफाई दी है. शत्रुघ्न ने कहा, 'अखिलेश और मायावती को प्रधानमंत्री का मेटेरियल वाला बयान का झूठा प्रचार किया जा रहा है.' उन्होंने कहा, 'मैं कहता हूं, वो ही करता हूं.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, 'मैंने कहा कि दोनों अच्छे लोग है दोनों काबिल है. मैंने जो भी कहा है वो सोच समझकर कहा है. शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि राहुल गांधी के सहमति के बाद ही उन्होंने पत्नी पूनम सिन्हा को अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को ज्वाइन कराया.

रवि शंकर सिन्हा के मामले में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि वो अच्छे लोग है, हमारा पारिवारिक संबंध भी है आपने मेरा इतिहास देखा ही है कि हर बार नए रिकॉर्ड से जीता हूं, यहां की जनता का जो भी फैसला होगा वह सर आखों पर रहेगा.

16 अप्रैल को पूनम सिन्हा समाजवादी पार्टी में शामिल हुईं थीं. पार्टी में शामिल होने से पहले ही ये कयास लगाए जा रहे थे कि समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद पार्टी उन्हें लखनऊ से बीजेपी सांसद राजनाथ सिंह के सामने चुनावी मैदान में उतारेगी. पार्टी में शामिल होने के कुछ घंटों बाद ही ऐलान हुआ कि पूनम लखनऊ सीट से महागठबंधन की उम्मीदवार होंगी. वहीं, कांग्रेस ने आचार्य प्रमोद कृष्णम को अपना उम्मीदवार बनाया है. पूनम के समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद उन्होंने लखनऊ से नामांकन दाखिल कर दिया था और इसके बाद चुनाव रोड शो किया था. इस रोड शो में डिम्पल यादव और शत्रुघ्न सिन्हा, पूनम के साथ मौजूद थे.