नई दिल्ली : भारत के सात टेस्ट विशेषज्ञ पहली विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप की शुरुआत से पूर्व इंग्लैंड की विभिन्न काउंटी टीमों की ओर से कुछ मैच खेल सकते हैं. बीसीसीआई काउंटी क्रिकेट के लिए जिन खिलाड़ियों के नामों पर विचार कर रहा है उनमें चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, पृथ्वी शॉ, हनुमा विहारी, मयंक अग्रवाल, रविचंद्रन अश्विन और ईशांत शर्मा शामिल हैं.

पुजारा का पहले ही यॉर्कशायर से तीन साल का करार है और वह दोबारा इस टीम की ओर से खेलने को तैयार हैं. बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई से कहा, ‘पुजारा का अनुबंध उनके और काउंटी के बीच करार है और यह लंबे समय का अनुबंध है.’ जहां तक रहाणे का सवाल है तो उनके आगामी हफ्ते में हैम्पशायर के साथ करार करने की उम्मीद है और उन्हें प्रशासकों की समिति के तीनों सदस्यों की स्वीकृति का इंतजार है.

अधिकारी ने कहा, ‘सीओए प्रमुख विनोद राय पहले ही स्वीकृति दे चुके हैं, लेकिन डायना एडुल्जी और लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडागे ने अब तक स्वीकृति नहीं दी है.’ उन्होंने कहा, ‘भारत को विश्व कप खत्म होने के लगभग एक पखवाड़े के बाद वेस्टइंडीज से खेलना है और बीसीसीआई ने प्रस्ताव तैयार किया है जिसके अनुसार उनके टेस्ट विशेषज्ञ जून से जुलाई के मध्य तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेल सकते हैं.’

बीसीसीआई जिन काउंटी टीमों से बात कर रहा है उनमें लीसेस्टरशायर, एसेक्स और नॉटिंघमशायर भी शामिल हैं. अधिकारी ने कहा, ‘इंग्लैंड में पिछली टेस्ट सीरीज के दौरान बीसीसीआई ने सभी बड़ी काउंटी टीमों के सीईओ से बात की थी, जिससे कि हमारे शीर्ष टेस्ट खिलाड़ी गर्मियों में वहां खेल सकें.’

आदर्श स्थिति में बीसीसीआई अपने खिलाड़ियों के लिए वेस्टइंडीज सीरीज से पूर्व तीन से चार प्रथम श्रेणी मैचों की संभावना तलाश रहा है. उन्होंने कहा, ‘हालात पूरी तरह से अलग होंगे, सिर्फ यही समानता होगी कि वे लाल ड्यूक गेंद से खेलेंगे, जो वेस्टइंडीज में भी इस्तेमाल होगी. बस उन्हें सिर्फ मैच खेलने का मौका मिलेगा. हमें उम्मीद है कि हमारे सभी सात टेस्ट खिलाड़ी इंग्लिश काउंटी में प्रथम या द्वितीय डिविजन में खेलेंगे.’ भारतीय कप्तान विराट कोहली को भी पिछले साल सरे की ओर से खेलना था, लेकिन वह चोटिल हो गए थे.