शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण रक्त कोशिकाएं बंद हो जाती है, जिसे ब्लाकेज की समस्या कहा जाता है। नम ब्लाकेज का एक सबसे बड़ा कारण गलत डाइट भी है। इसके कारण कोरोनरी धमनी रोग, मन्या धमनी रोग, परिधीय धमनी रोग और हार्ट स्टोक का खतरा भी बढ़ जाता है। कुछ लोग नस ब्लाकेज को खोलने के लिए दवाइयों का सहारा लेते हैं लेकिन आप घरेलू नुस्खे अपनाकर भी इस समस्या को दूर कर सकते हैं।

भारत के 60% लोगों नस ब्लॉकेज से परेशान
शोध के अनुसार, 40-60% भारतीय नस ब्लॉकेज की समस्या से परेशान है। वहीं 20% महिलाओं को यह परेशानी गर्भावस्था के बाद हो पाती है। इसकी पहचान सही समय पर नहीं हो पाती, जिसका असर वैरिकॉज वेंस (Varicose Veins) के रूप में सामने आता है। दरअसल, बुरे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने से नसों में खून का प्रवाह अच्छे से नहीं होता, जिससे पैरों में सूजन व नसों के गुच्छे बनने शुरू हो जाते हैं, जो बाद में ब्लॉकेज का रूप ले लेता है।

नस ब्लॉकेज के कारण
नसों में चोट लगने के कारण
रक्त प्रवाह में परिवर्तन
खराब दिनचर्या
गलत खान-पान
घंटो तक बैठे रहना
शारीरिक गतिविधि की कमी
अधिक जंक फूड खाना
लम्बे समय तक कब्ज
मोटापे के कारण
विटामिन सी की कमी
किसी रोग के कारण
किन लोगों को होती है ब्लॉकेज की परेशानी?

गलत खान-पान और एक ही पॉश्चर में घंटों तक बैठने वाले लोग इसकी चपेट में जल्दी आ जाते हैं। वहीं बढ़ती उम्र के लोगों में भी यह समस्या अधिक देखने को मिलती है। वैरिकॉज की परेशानी पैरों की धमनियों में अधिक होती हैं क्योंकि यहां खून के प्रवाह का भार अधिक होता है।

नस ब्लॉकेज का घरेलू नुस्खा
सामग्री:
दालचीनी पाउडर - 1 ग्राम
साबुत काली मिर्च- 5 ग्राम
तेजपत्‍ता- 5 ग्राम
मगज सीड्स- 5 ग्राम
मिश्री- 5 ग्राम
अखरोट गिरी- 5 ग्राम
अलसी के बीज- 5 ग्राम

बनाने की तरीका
सभी सामाग्रियों की मिक्सी में डालकर बिल्कुल बारीक पीस लें। अब इस चूर्ण को 10 बराबर भाग में बांट लें। रोजाना सुबह खाली पेट इसकी 1 हिस्सा का सेवन करें लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि इसे लेने के 1 घंटे तक आप कुछ ना खाएं। इस चूर्ण का सेवन करने से शरीर की बंद नसें कुछ ही दिनों में खुल जाएंगी।

आहार जो करते हैं नसों की सफाई
लहसुन
बंद धमनियों की समस्या होने पर 3 लहसुन की कली को 1 कप दूध में उबाल कर पीएं। इसके अलावा अपने आहार में लहसुन का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल और हार्ट स्टोक का खतरा कम हो जाता है।

अनार का जूस
एंटीऑक्सीडेंट, नाइट्रिक और ऑक्साइड के गुणों से भरपूर अनार के 1 गिलास जूस का रोजाना सेवन आपको धमनियों की ब्लोकेज के साथ कई हेल्थ प्रॉब्लम से दूर रखता है।

एवोकाडो
एवोकाडो में मौजूद मिनरल्स, विटामिन्स रक्त कोशिकाओं में कोलेस्ट्रॉल जमा नहीं होने देते। इससे नस ब्लॉकेज की समस्या से बचे रहते है।

ड्राई फ्रूट्स
रोजाना कम से कम 50-100 ग्राम बादाम, अखरोट और पेकन (Pecan) का सेवन आपकी रक्त कोशिकाओं में कोलेस्ट्रॉल जमा नहीं होने देता। इससे आप ब्लाकेज की समस्या से बचे रहते है।

हल्दी
एक गिलास गुनगुने दूध में 1 चम्‍मच हल्‍दी पाउडर और थोड़ा-सा शहद मिलाकर पीने से भी बंद नसें खुल जाती है।

अलसी के बीज
रात को अलसी के बीज पानी में भिगों दें। सुबह इसे पीसकर पानी में उबाल कर काढ़ा बनाकर पीएं। इससे कुछ दिनों में ही ब्लॉक नसें खुल जाएगी।

इन चीजों से करें परहेज
नस ब्लॉकेज की समस्या होने पर आपके नमक, शक्कर, आइस्क्रीम, तले हुए चीजें, प्रोसेस्ड या रिफाइंड आहार, जंक फूड्स, नॉनवेज प्रोटीन्स और शराब के सेवन नहीं करना चाहिए। इस चीजों का सेवन आपकी समस्या को और भी बढ़ा सकता है।