झुकाना सीखना पड़ता है सर लोगों के कदमों में, यूं ही जम्हूरियत में हाथ सरदारी नहीं आती। और खां...आखिरकार चुनावी जंग की आखिरी मंजिल अनकरीब आ गई। 23 को नतीजों का ऐलान हो जाएगा। अब भलेही एग्जिट पोल कुछ बी कहें ओरिजनल नतीजे तो उसी दिन पता चलेंगे। बहरहाल, अखबारों से लेके न्यूज चैनलों में सारी तैयारियां स्ट्रीम लाइन कर ली गई हैं। अखबारों के तकरीबन हर रिपोर्टर की ड्यूटी फिक्स हो गई है। कोई जेल के अंदर रहेगा तो कोई बाहर। हर दौर की वोटिंग का अपडेट फौरन देना और सबसे जल्दी देना इनकी जवाबदारी रहेगी। अखबारों में मप्र से लेके मुल्क के तमाम खास उम्मीदवारों के फोटू मय बक्से के और पुराने जीत हार के  साथ तैयार कर लिए गए हैं। वहां डिजाइनर लेआउट फायनल कर रहे हैं। यहां तक की हेडिंग क्या होगा इसपे भी काम चल रहा है। उधर चैनलों में सबसे पहले खबरें ब्रेक करने पर जोर रहेगा। जेल के बाहर आने वाले नेताओं को घेरने के लिए कैमराटीमें मौजूद रहेंगी। दिल्ली से भी दर्जनभर पत्रकार भोपाल आ रहे हैं। सभी पार्टियों के प्रमुख नेताओं को लाइव के लिए लाइनअप कर लिया गया है। प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया की ये टीमें सुबह 6 बजे से नतीजे आने तलक फील्ड में मुस्तैद रहेंगी। ठीक हे खां...टेक केयर।