नागपुर: एग्जिट पोल के नतीजों में बीजेपी को भारी बहुमत मिलने के अनुमानों के अगले ही दिन यानी सोमवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और आरएसएस के सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी की मुलाकात हुई. इस मीटिंग के बाद कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. ऐसा इसलिए क्‍योंकि हालिया महीनों में नितिन गडकरी कई बार अपनी स्‍वतंत्र राय रखते रहे हैं. वैसे नितिन गडकरी संघ के बेहद करीबी नेता माने जाते हैं. दो घंटे चली उस मीटिंग में बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय भी मौजूद थे.

बीजेपी नेता और पश्चिम बंगाल में बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने हालांकि कहा कि बैठक चुनाव को लेकर नहीं बल्कि अंत्योदय योजना के संबंध में थी. इसके साथ ही कैलाश विजयवर्गीय से जब पूछा गया कि क्‍या वह पार्टी अध्‍यक्ष बनने की रेस में है तो उन्‍होंने साफ कर दिया कि मैं पार्टी के अध्‍यक्ष पद की दौड़ में नहीं हूं.

इससे पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि एग्जिट पोल अंतिम परिणाम नहीं हैं लेकिन राजग सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों के दम पर भाजपा के एक बार फिर से सत्ता में आने का संकेत देते हैं. भाजपा के वरिष्ठ नेता गडकरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक ‘पीएम नरेन्द्र मोदी’ का पोस्टर जारी होने के मौके पर बोल रहे थे. यह बायोपिक इसी शुक्रवार को प्रदर्शित होने जा रही है.

एक सवाल के जवाब में नितिन गडकरी ने कहा, ‘‘एग्जिट पोट अंतिम निर्णय नहीं हैं लेकिन संकेत हैं. हालांकि, एग्जिट पोल में जो बात सामने आती है, वह कमोबेश नतीजों में भी झलकती है.’’ अधिकतर एग्जिट पोल में मोदी के दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने का अनुमान जाहिर किया गया है. इनमें से कुछ एग्जिट पोल में भाजपा की अगुवाई वाले राजग को लोकसभा में जरूरी बहुमत का आंकड़ा 272 को पार कर जाने और 300 से अधिक सीटें मिलने की बात कही गई है. गडकरी ने जोर देकर कहा कि मोदी के नेतृत्व में भाजपा की नई सरकार का गठन होगा.

प्रधानमंत्री पद के लिए उनके नाम पर विचार के बारे में पूछे जाने पर गडकरी ने कहा, ‘‘मैंने यह करीब 25 से 50 बार स्पष्ट किया है. हमने मोदीजी के नेतृत्व में चुनाव लड़ा है और वह निश्चित रूप से एक बार फिर प्रधानमंत्री बनेंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘देश के लोग एक बार फिर भाजपा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पांच साल में हमारे द्वारा किए गए काम को समर्थन दे रहे हैं. ....और एग्जिट पोल संकेत हैं.’’ गडकरी ने कहा कि भाजपा महाराष्ट्र में 2014 के लोकसभा चुनाव की तरह ही सीटें हासिल करेगी.