नई दिल्ली: ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे अपने ब्रेक्जिट करार को बचाने की आखिरी कोशिश की संसद द्वारा बुधवार को निंदा किए जाने के बाद अपने राजनीतिक करियर के अंत की ओर देख रही हैं. माना जा रहा है कि टेरेसा अपने कार्यकाल के अंतिम दिनों में हैं. उनका कार्यकाल का बड़ा हिस्सा इसी बात पर केंद्रित रहा है कि यूरोपीय संघ (ईयू) से ब्रिटेन के अलग होने के करार पर पूरे देश को एकजुट कैसे किया जाए.

लेकिन संसद तीन बार उनके प्रस्तावों को खारिज कर चुकी है. ब्रिटेन के ईयू से बाहर निकलने की मूल समयसीमा 29 मार्च ही थी, लेकिन टेरेसा ने इसके लिए और वक्त मांगा था. गुरूवार को होने वाले यूरोपीय संसद के चुनावों में टेरेसा की कंजरवेटिव पार्टी को भारी नुकसान के आसार हैं.

इस बीच, ब्रिटेन की वरिष्ठ मंत्री एंड्रिया लीडसम ने बुधवार को कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया. लीडसम के इस्तीफे को टेरेसा मे के खिलाफ तख्तापलट की ताजा कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. वह ब्रेक्जिट पर प्रधानमंत्री के रुख से सहमत नहीं थीं.