लंदन: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को इस बार के आईसीसी क्रिकेट वनडे विश्व कप में काफी अहम कप्तान के तौर पर देखा जा रहा है. हाल ही में जब टूर्नामेंट के सभी कप्तानों की प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई तो उनसे कई तरह के सवाल किए गए. इन्हीं सवालों के जवाब देते हुए कोहली ने कहा कि अपने बिलकुल अलग तरह के कौशल के कारण तेज गेंदबाज ज्योफ्रा आर्चर इस विश्व कप में इंग्लैंड के ‘एक्स फेक्टर’ होंगे.

हाल ही में इंडियन प्रीमियर लीग में आर्चर ने शानदार प्रदर्शन कर सुर्खियां बटोरी थी. वे इस बार राजस्थान रायल्स की ओर से आईपीएल खेले थे. आर्चर ने अभी तक सिर्फ तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं लेकिन डेथ ओवरों में अपनी गेंदबाजी से टी20 में वह काफी सफल रहे हैं और उनके मेहमान टीमों के लिए मुश्किलें पैदा करने की उम्मीद है. आर्चर का इंग्लैंड टीम में चयन लोगों को काफी हैरान कर गया था.

आर्चर ने हाल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले आर्चर ने इंग्लैंड टीम में अपने चयन के बाद कहा था कि वे दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज कोहली का विकेट हासिल करना चाहते हैं. कोहली ने आईसीसी की कप्तानों की आधिकारिक प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘वे संभवत: एक्स फेक्टर होंगे. उनके पास ऐसा कौशल है जो बाकी खिलाड़ियों से काफी अलग है. वे काफी गति हासिल कर सकते हैं और वे शानदार खिलाड़ी हैं. मुझे यकीन है कि इंग्लैंड को उनके होने से खुशी होगी. विश्व कप में उन्हें देखना रोमांचक होगा.

कोहली ने कहा, ‘‘ज्योफ्रा का यह करना बड़ी प्रशंसा है क्योंकि वह स्वयं विश्व स्तरीय गेंदबाज है. पिछले कुछ वर्षों में उसने जिस तरह का प्रदर्शन किया है वह इंग्लैंड का उसे विश्व कप जैसे टूर्नामेंट के लिए टीम में जगह देने का कारण है.’’  इंग्लैंड टीम को इस बार खिताब का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है. इसी महीने इंग्लैंड ने पाकिस्तान को अपने ही घर में पांच वनडे मैचों की सीरीज में 4-0 से करारी मात दी है. इस सीरीज में सारे मैच हाई स्कोरिंग थे और इंग्लैंड ने हर मैचो में 340 से ज्यादा रन बनाए थे.  

इंग्लैंड की टीम को इस बार विश्वकप विजेता के लिए सबसे मजबूत दावेदार बताया जा रहा है. इसकी वजह वैसे तो इंग्लैंड की मजबूत बल्लेबाजी है जो लंबे समय से वनडे में बड़े स्कोर बना रही है, लेकिन आर्चर लोगों का ध्यान इंग्लैंड की बल्लेबाजी से हटाकर उसकी गेंदबाजी पर ला सकते हैं. विराट के बयान से भी यही झलक रहा है. इंग्लैंड की पिचें इस बार सपाट बताई जा रही हैं और कहा जा रहा है कि टूर्नामेंट में सफल गेंदबाजी आसान नहीं होगी