बरेली : बरेली के चौकी चौराहे पर स्थित मजार के सामने सड़क पर नमाज पढ़ने को लेकर शुक्रवार को हुए हंगामे के बाद पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. शुक्रवार को सैकड़ों लोगों ने कोतवाली में पहुंचकर हंगामा किया था और उसके बाद जबरन सड़क पर नमाज पढ़ी थी. अब पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए मस्जिद के इमाम, उसके बेटों सहित 12 लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की है. साथ ही और 100 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की है. एफआईआर के बाद लोगों में हड़कम्प मचा हुआ है.

दरअसल, नेशनल हाईवे पर शहर कोतवाली में स्थित चौकी चौराहे पर एक मजार है. वहां पर जुमे के दिन पूरी सड़क को घेरकर नमाज होती है. इससे चौराहे पर लंबा जाम लग जाता है. जिस वजह से एसपी सिटी अभिनदंन सिंह ने पूरी सड़क घेरकर नमाज पढ़ने पर प्रतिबंध लगा दिया था. इसके बावजूद पहले से अधिक संख्या में लोग वहां शुक्रवार को इकट्ठे हो गए और जबरन नमाज पढ़ने पर आमादा हो गए.

मौके पर पहुंची पुलिस ने सड़क पर नमाज नहीं होने दी तो काफी संख्या में लोगों ने शहर कोतवाली का घेराव कर दिया था. थाने में मौजूद इंस्पेक्टर को खरी खोटी भी सुनाई गई. इसके बाद इंस्पेक्टर पंकज वर्मा को धमकी देकर एक बार फिर से और अधिक संख्या में लोग नमाज पढ़ने पहुंच गए थे.

मामला बिगड़ता देख आस पड़ोस के थानों की पुलिस के साथ एसपी सिटी, सीओ सिटी 1, सीओ सिटी 3 और सिटी मजिस्ट्रेट मौके पर पहुंचे थे. इसके बाद लोगों को एसपी सिटी ने सख्त लहजे में समझा दिया कि आज के बाद अगर पूरी सड़क घेरकर नमाज की गई तो कानूनी कार्यवाही की जाएगी. वहीं एसपी सिटी ने कहा था कि अफवाह फैलाने वाले और लोगों को भड़काने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी.

आईएमसी नेता डॉ नफीस ने मौके पर पहुंचकर आग में घी डालने का काम किया था और लोगों को कोतवाली से भड़काकर सड़क पर नमाज पढ़ाने के लिए ले गए थे. डॉ नफीस का कहना था कि यहां पर वर्षों से नमाज होती आ रही है. लेकिन भाजपा राज में पुलिस प्रशासन नमाज नहीं होने दे रहा है.