चक्रवाती तूफान वायु के प्रभाव से बचने के लिए 10 चीनी पोतों ने भारत में शरण ली है. इन पोतों को महाराष्ट्र के रत्नागिरी बंदरगाह में शरण दी गई. भारतीय तटरक्षक महानिरीक्षक केआर सुरेश ने बताया कि भारतीय तटरक्षक बल ने उन्हें सुरक्षा घेरा के तहत वहां रहने की इजाजत दी है.

मौसम विभाग के मुताबिक अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है. ऐसे में वायु चक्रवात गुजरात तट से 13 जून को टकरा सकता है. अगले 24 घंटे में वायु और तेज हो सकता है. वायु गुजरात के वेरावल के पास टकरा सकता है. भारत के तटीय इलाकों में टकराते समय इसकी गति 110 से 135 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है.

वहीं, वायु से प्रभावित लोगों की मदद के लिए भारतीय वायुसेना का एक विमान नई दिल्ली से विजयवाड़ा जा रहा है. यह विमान एनडीआरएफ के 160 कर्मचारियों को लेने जा रहा है. ये सदस्य गुजरात में वायु चक्रवात से प्रभावित लोगों की मदद के लिए जा रहे हैं.

Indian Coast Guard Inspector General, KR Suresh: 10 Chinese vessels seek shelter at the Ratnagiri port (in Maharashtra) to avoid being hit by the fury of #CycloneVayu. On humanitarian grounds, Indian Coast Guard allows them to stay there under security cordon. pic.twitter.com/vSVo2F08no

— ANI (@ANI) June 11, 2019

'वायु' को लेकर गुजरात अलर्ट पर
गुजरात के मुख्य सचिव के मुताबिक वायु वेरावल के पास बुधवार सुबह 6 से 7 बजे के बीच तटीय इलाकों में टकरा सकता है. इसे लेकर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज एक समीक्षा बैठक भी ली. एनडीआरएफ की टीम को सौराष्ट्र और गिर सोमनाथ भेज दिया गया है. रूपाणी ने कहा है कि बुधवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक में वायु मुख्य मुद्दा होगा. सभी अधिकारियों की छुट्टी रद्द कर दी गई है.

#WATCH Karnataka: District Administration install boulders along the coast in Ullal in Mangaluru after very rough sea conditions prevail in the region. #CycloneVayu pic.twitter.com/3d0D4R4auN

— ANI (@ANI) June 11, 2019

गुजरात में एनडीआएफ की कुल 26 टीमें सहायता के लिए लगाई गई है, जबकि 10 को स्टैंडबाइ पर रखा गया है. 26 में से एनडीआरएफ की 16 टीमें राजकोट में लगाई गई हैं. सौराष्ट्र में 292 गांव प्रभावित हो सकते हैं. वायु चक्रवात वेरावल, पोरबंदर, जूनागढ़, भावनगर, कच्छ और द्वारिका में ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है. एहतियातन राजकोट, वेरावल द्वारिका, भावनगर, पोरबंदर समेत सभी तटीय इलाकों में स्कूल और कॉलेज 12, 13 और 14 जून को बंद कर दिए गए हैं.