वास्तु के अनुसार जाने अनजाने हम कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं, जिनका खामियाजा हमें पैसों के नुकसान के रुप में भुगतना पड़ता है। कई बार तो हम मेहनत पूरी करते हैं लेकिन उस मेहनत का फल हमें अच्छी तरह नहीं मिल पाता। उसका कारण हमें अपने घर में कुछ छोटी-छोटी बातों या आदतों को बदलने की जरूरत है। वास्तु के अनुसार हमारे घर की सुख-शांति घर में मौजूद दूध, फूल, पौधे, जुते-चप्पल और खाने से जुड़ी होती हैं, जिसके कारण हमारी की हुई मेहनत पर लगातार पानी फिरता रहता है। तो चलिए जानते हैं किस तरह से अपनी आदतों को बदलकर हम अपनी जिंदगी में लगे वास्तु दोष खत्म कर सकते हैं....

दूध को कभी न रखें खुला
दूध को उबाला दिलाने के बाद कभी भी खुला नहीं छोड़ना चाहिए। दूध के ठंडा होने तक उसे जाली के साथ कवर करके रखें। फ्रिज में भी दूध को हमेशा ढककर ही रखना चाहिए। कभी भी किसी अनजान व्यक्ति की नजर बर्तन में पड़े दूध पर नहीं जानी चाहिए।

मंदिर में न रखें मुरझाए हुए फूल
कई लोग सुबह पूजा के वक्त भगवान को फूल अर्पित करते हैं। लेकिन मुरझाए हुए फूलों को उठाना अक्सर लोग भूल जाते हैं। सूखे-मुरझाए हुए फूल भगवान के आगे पड़े रखना सबसे अधिक अशुभ बात मानी जाती है। इसलिए 2 से 3 घंटो के बाद या तो फूल बदल दीजिए या फिर पुराने फूल उठाकर पौधों या कियारी में फैंक दीजिए।

पक्षियों के लिए खाना
दिन में दो बार अवश्य खाना बनाते समय पक्षियों के लिए खाना निकालें। हो सके तो सबसे पहली चपाती चिड़ियों के नाम की ही निकाली जाए। ऐसा करने से घर की रसोई में बरकत बनी रहती है।

जूते-चप्पल को न रखें तिजोरी या किचन के पास
घर में तिजोरी के आसपास और किचन में जूते-चप्पन नहीं लेकर जाना चाहिए। ये आदत आपके लिए धन के नुकसान का कारण बन सकती हैं। साथ ही किचन के पास जूते-चप्पल उतारने से सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है।

कांटेदार पौधे रखें घर के बाहर
किसी भी तरह के कांटेदार पौधे भूलकर भी घर में ना रखें। कांटेदार पौधों को घर में रखने से घर का माहौल नेगेटिव बनता है।अगर आपको कुछ ऐसे पौधे पसंद हैं भी तो ऐसे पौधों को घर के बाहर ही रखना चाहिए।