गुवाहटी: असम के जोरहाट जिले में बुधवार को राष्ट्रीय राजमार्ग 37 पर बोलेरो और ट्रक के बीच भिड़ंत हो गई. दोनों गाड़ियों की टक्कर इतनी भयानक थी कि बोलेरो में सवार एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत हो गई और 4 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. जोरहाट पुलिस के अनुसार, गुवाहाटी के सोनापुर से डिब्रूगढ़ के मोरान शहर जा रही बोलेरो नेशनल हाईवे 37 पर पर भुगड़ोई पुल के पास उल्टी दिशा से तेज़ रफ़्तार से आ रहे ट्रक, से टकरा गई.
 
टक्कर में एक परिवार की 6 लोगों में से प्रभावती देवी और उर्मिला देवी की मौत घटनास्थल पर ही मौत हो गई. बाद में रविंद्र शाह नाम के व्यक्ति की जोरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मौत हुई. बोलेरो में सवार अन्य 4 लोग - ममता राजकुमारी, राजू शाह , सुदामा शाह और बलेरों गाड़ी ड्राइवर पुलक दास को गंभीर हालत में जोरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जिनकी हालत चिंताजनक बताई गई है.

जोरहाट ट्रैफिक पुलिस सब इंस्पेक्टर रंजीत दास ने बताया कि बलेरों गाड़ी में सवार एक ही परिवार के 6 लोग गुवाहाटी के सोनापुर से डिब्रूगढ़ जिले के मोरान टाउन में वैवाहिक रिश्ते के लिए लड़की देखने जा रहे थे. दुर्घटना के पीछे बोलेरो के ड्राइवर की आंख लग जाने को कारण बताया जा रहा है, पुलिस ने ट्रक जब्त कर लिया हैं लेकिन ड्राइवर फ़रार बताया गया है.  

बता दें कि असम के नेशनल हाईवे संख्या 37 पर आए दिन दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं और इसके पीछे एनएच 37 की बदहाल सड़क को दोषी माना जा रहा है. गौरतलब है कि हाल ही में असम के मुख्यमंत्री सर्वानन्दा सोनोवाल ने सड़क की बदहाली को देखते हुए ठेकेदारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे और लोक कल्याण विभाग (PWD) पर सवालिया निशान भी खड़े किए गए थे.

मुख्यमंत्री की नाराज़गी के बाद ही असम के लोक कल्याण विभाग के मंत्री डॉ हिमंत विश्व शर्मा ने स्पष्टीकरण देते हुए मीडिया को बताया था कि राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण और मरम्मत की जिम्मेदारी और जवाबदेही केंद्रीय राजमार्ग सड़क यातायात मंत्रालय के अधीन आती है और जल्द ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ असम के जर्जर होती राष्ट्रीय राजमार्ग के स्थिति से अवगत कराएंगे.