मुंबई : बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और मराठी सिनेमा के डायरेक्टर नागराज मंजुले एक साथ फिल्म 'झुंड' में काम कर रहे हैं. बड़ी ही तेजी से फिल्म की शूटिंग भी खत्म कर दी गई है. लेकिन अब एक खास इंटरव्यू में फिल्म 'झुंड' के प्रोड्यूसर सविता हायरमथ ने इस फिल्म में अमिताभ बच्चन के किरदार से जुड़ी कुछ खास बातें शेयर की हैं.

अब बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन हैं जो अब एक मराठी सिनेमा में काम कर रहे हैं तो यह सवाल तो सभी के दिमाग में आता है कि क्या वजह है कि बिग बी ने मराठी सिनेमा का रुख किया. तो बता दें कि इसके पीछे मराठी सिनेमा की पापुलर फिल्म 'सैराट' का हाथ है.

जी हां! फिल्म 'झुंड' के प्रोडूसर सविता हायरमथ ने बताया कि फिल्म झुंड में  बिग बी एक आदिवासी शिक्षक बने हैं. साथ ही बताया कि वह डायरेक्टर नागराज मंजुले से मिलने पुणे गयी. वहां नागराज से बात करते-करते उन्हें इस बात का अहसास हुआ की नागराज, अमिताभ बच्चन के बहुत बड़े फैन हैं और जब उन्होंने नागराज से कहा कि वह अमिताभ बच्चन से इस फिल्म की कहानी के बारे में बात कर सकती हैं और उन्हें एप्रोच कर सकती हैं. तो नागराज फिल्म को डायरेक्ट करने के लिए तुरंत राजी भी हो गए.

इसके बाद सविता ने बच्चन साहब को स्टोरी आईडिया भेज दिया , बिग बी ने 'सैराट' देखने के बाद उनसे स्क्रिप्ट मंगवाई और फिर शुरू हो गया दोनों का साथ में काम करने का सिलसिला. 'सैराट' फिल्म में अपने निर्देशन से नागराज मंजुले में मराठी सिनेमा में अपनी मजबूत छाप छोड़ दी है. फिल्म की पटकथा को बखूबी बड़े पर्दे पर उतारने में नागराज का निर्देशन सफलता के शिखर तक पहुंच चुका है. और यही वजह है कि  बिग बी फिल्म को ना नहीं कर पाए और 'झुंड' फिल्म का शूट शुरू हो गया है

इसके पहले भी अमिताभ बच्चन फिल्म 'मोहब्बतें', 'आरक्षण' और 'ब्लैक' में टीचर का रोल अदा कर चुके हैं. इन दिनों नागराज मंजुले भी मराठी 'केबीसी' होस्ट कर रहे हैं. उम्मीद हैं कि बिग बी और नागराज की ये जोड़ी पहली बार लोगों को पैसा वसूल एंटरटेनमेंट परोसेगी