नई दिल्‍ली : आतंकियों को आर्थिक मदद मुहैया कराने वाले एक शख्‍स को एनआईए ने गिरफ्तार किया है. मोहम्‍मद आरिफ गुलाम बशीर नामक इस आरोपी को एनआईए ने दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की कार्रवाई से बचने के लिए आरोपी मोहम्‍मद आरिफ लंबे समय से दुबई में छिपा हुआ था. बुधवार को दिल्‍ली एयरपोर्ट पहुंचने के साथ एनआईए की टीम ने आरोपी मोहम्‍मद आरिफ को गिरफ्तार कर लिया.

एनआईए की टीम आरोपी मोहम्‍मद आरिफ को आज पटियाला हाउस की स्‍पेशल एनआईए कोर्ट में पेश करेगी. कोर्ट से आरोपी की रिमांड हासिल करने के बाद एनआईए आरोपी मोहम्‍मद आरिफ से पूछताछ शुरू करेगी. संभावना जताई जा रही है कि इस पूछताछ में आतंकियों के कई अन्‍य मददगारों के चेहरे से नकाब उठ सकता है.

एनआईए के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, आरोपी मोहम्‍मद आरिफ मूल रूप से गुजरात के वलसाड़ का रहने वाला है. आरोपी फलाह-ए-इंसानियत नामक फाउंडेशन के जरिए आतंकियों को आर्थिक मदद देता था. उन्‍होंने बताया कि आतंकियों को आर्थिक मदद देने के मामले में इस फाउंडेशन का नाम आने के बाद आरोपी मोहम्‍मद आरिफ फरार हो गया था. वह अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए लंबे समय से दुबई में छिपा हुआ था.

उन्‍होंने बताया कि एनआईए ने आरोपी मोहम्‍मद आरिफ के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर इमीग्रेशन विभाग को सचेत किया था. एनआईए को बुधवार शाम इंटेलीजेंस इनपु‍ट मिला कि आरोपी आरिफ मोहम्‍मद दुबई से दिल्‍ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर पहुंचा रहा है. जिसके बाद, एनआईए ने एयरपोर्ट पर अपना जाल बिछा दिया और एयरपोर्ट पहुंचते ही आरोपी मोहम्‍मद आरि को गिरफ्तार कर लिया.