नई दिल्ली: जेट एयरवेज के पुनरुत्थान की टूटती उम्मीदों के बीच नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने शुक्रवार को विश्वास जताया कि बंद पड़ी विमानन कंपनी को दोबारा शुरू करने का समाधान मिल जाएगा. पुरी ने यहां एक समारोह से इतर कहा, "हमें पूर्ण विश्वास है कि हम इस बंद पड़ी एयरलाइन के समस्याओं का समाधान कर सकते हैं." यह बयान एयरलाइन के कर्मचारियों के एक वर्ग को मंत्री द्वारा विमानन कंपनी को दोबारा शुरू करने के प्रयास के आश्वासन मिलने के दावे के एक दिन बाद आया है.

जेट एयरवेज ने धन की कमी के कारण 17 अप्रैल से अपने सभी परिचालन को रोक दिया है. कंपनी के पास 119 विमान थे, जिसमें करीब 90 विमान दूसरी कंपनियों को पट्टे पर दे दिए गए हैं. एक समय देश-विदेश की प्रमुख कंपनी जेट एयरवेज अब पूरी तरह से बंद होने की प्रक्रिया में है, क्योंकि कंपनी के शेयरधारक एतिहाद या किसी नए निवेशक ने कंपनी में पैसे नहीं डाले हैं.

जेट एयरवेज के कर्मचारियों को उम्मीद है कि सरकार विमानन कंपनी को दोबारा शुरू करने के उपाय करेगी और इसके लिए उन्होंने पिछले महीन ेराष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के दोबारा सत्ता में लौटने के बाद मंत्री समेत अन्य वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों से मुलाकात की है.