भारतीय क्रिकेट टीम विश्व कप-2019 के महामुकाबले में आज मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान का सामना करेगी. न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत का पिछला मैच बारिश के कारण धुल गया था, लेकिन अब उसके सामने वो मुकाबला है, जिसका पूरे क्रिकेट जगत को बेसब्री से इंतजार रहता है. मैदान के अंदर और बाहर इस मुकाबले को लेकर दोनों देशों की सीमाओं के अंदर और सीमाओं के आसपास जबरदस्त रोमांच और उत्साह रहता है.

इस मुकाबले पर सभी की नजरें हैं और यह मुकाबला खास इसलिए भी है, क्योंकि भारत और पाकिस्तान के बीच इस मैच से पहले जो मैच खेला गया था, वो था आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी-2017 का फाइनल जहां भारत को मात मिली थी.

उस हार का जख्म भारत के लिए बड़ा था जिसे भरने के लिए उसके दिमाग में इस मैच में जीत के सिवाए कुछ और नहीं होगा.

भारत ने इस विश्व कप में अभी तक दो मैच खेले हैं. पहले मैच में उसने साउथ अफ्रीका को मात दी थी तो वहीं दूसरे मैच में मौजूदा विजेता ऑस्ट्रेलिया को हराया था. तीसरा मैच न्यूजीलैंड से था जो बारिश के कारण धुल गया था.

अगर विश्व कप में इन दोनों टीमों की बात की जाए तो भारत कभी भी इस टूर्नामेंट में पाकिस्तान से हारा नहीं है. 1992 से लेकर 2015 विश्व कप तक दोनों टीमें छह बार आमने-सामने हो चुकी हैं लेकिन पाकिस्तान कभी भी जीत नहीं पाया है. इस रिकॉर्ड से जरूर भारत को आत्मविश्वास मिलेगा.

लेकिन भारत को यह नहीं भूलना चाहिए कि ये वही पाकिस्तान है जिसने चैम्पियंस ट्रॉफी में उसे मात दी थी. इस बार भी यह टीम कम नहीं. पाकिस्तान ने शुरुआत जरूर खराब की थी और पहले मैच में न्यूजीलैंड से हार गई थी.

लेकिन पाकिस्तान ने वापसी करते हुए मेजबान इंग्लैंड को मात दी और अपने पिछले मैच में मौजूदा विजेता ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कड़ा मुकाबला खेल बता दिया था कि उसे हराना आसान नहीं है.

पाकिस्तान के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि उसके दो सबसे अनुभवी गेंदबाज मोहम्मद आमिर और वहाब रियाज फॉर्म में आ गए हैं. इन दोनों ने इंग्लैंड के खिलाफ बेहतरीन स्पैल डाल उसे हार की तरफ मोड़ दिया था तो वहीं आमिर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच विकेट ले उसे बड़ा स्कोर नहीं करने दिया था.

आमिर ने ही चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में विराट कोहली और रोहित शर्मा के विकेट ले भारत को हार की तरफ धकेला था. इस मैच में भी सभी की नजरें आमिर और कोहली के बीच होने वाली प्रतिस्पर्धा पर होंगी. आमिर को बड़े टूनार्मेंट का खिलाड़ी कहा जाने लगा है क्योंकि चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद उन्होंने बेहद खराब प्रदर्शन किया था. वह विश्व कप टीम में भी जगह नहीं बना पाए थे लेकिन चयनकतार्ओं ने बाद में उन्हें टीम में शामिल किया और आमिर ने इस विश्व कप में अपने आप को अभी तक साबित किया है.

भारत के लिए एक बुरी बात यह है कि शिखर धवन खेलने के लिए मौजूद नहीं है. ऐसे में रोहित के साथ पारी की शुरुआत लोकेश राहुल करेंगे. राहुल और रोहित की कोशिश भारत को अच्छी शुरुआत देने की होगी.

कोहली पर पूरा विश्व नजर टिकाए बैठा है, क्योंकि वह पिछली बार पाकिस्तान के खिलाफ विफल हो गए थे. इस बार कप्तान कोहली भी कोशिश करेंगे कि पाकिस्तान के खिलाफ रन कर सकें.

चौथे नंबर पर टीम मैनेजमेंट किसे उतारता है यह देखना होगा. टीम के पास विजय शंकर और दिनेश कार्तिक के रूप में दो विकल्प हैं. महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव पर भी बड़ी जिम्मेदारी होगी. वहीं हार्दिक पांड्या से एक बार फिर उसी तरह की पारी की उम्मीद होगी जिस तरह की उन्होंने चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में खेली थी.

पाकिस्तान की गेंदबाजी लय में आ गई है लेकिन उसे फील्डिंग से निराशा मिल रही है. टीम की फील्डिंग अभी तक दोयम दर्जे की साबित हुई है और यह भारत के खिलाफ उसे मुसीबत में डाल सकती है.

वहीं अगर बल्लेबाजी की बात की जाए तो पाकिस्तान के लिए भारत के बेहतरीन गेंदबाजी आक्रमण का सामना करना आसान नहीं होगा. दो साल में भारत ने अपनी गेंदबाजी में गजब का सुधार किया है. जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार शुरू में पाकिस्तानी बल्लेबाजी की परीक्षा लेंगे तो मध्य में लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल और चाइनामैन कुलदीप यादव भी पाकिस्तानियों को परेशान करेंगे.

पाकिस्तान को इमाम उल हक और फखर जमन से अच्छी शुरुआत की उम्मीद होगी. बाबर आजम और मोहम्मद हफीज तो फॉर्म में हैं लेकिन शोएब मलिक का बल्ला अभी तक शांत है. भारत के खिलाफ जीत के लिए इन शीर्ष-4 बल्लेबाजों में से किसी एक को बड़ी पारी खेलनी होगी.

टीमें (संभावित) :

भारत: विराट कोहली (कप्तान), जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, शिखर धवन, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक, भुवनेश्वर कुमार, हार्दिक पांड्या, लोकेश राहुल, मोहम्मद शमी, विजय शंकर, रोहित शर्मा, कुलदीप यादव.

पाकिस्तान: सरफराज खान (कप्तान/विकेटकीपर), फखर जमन, इमाम-उल-हक, बाबर आजम, आसिफ अली, शोएब मलिक, मोहम्मद हफीज, हैरिस सोहेल, शादाब खान, इमाद वसीम, शाहीन अफरीदी, हसन अली, मोहम्मद हसनेन, वहाब रियाज, मोहम्मद आमिर.