अयोध्या: शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने अपने 18 सांसदों के साथ अयोध्या में रामलला के दर्शन किए. उद्धव के साथ उनके बेट आदित्य ठाकरे भी मौजूद रहे. इसके बाद उद्धव ठाकरे अयोध्या के होटल पंचशील में प्रेस कांफ्रेस करेंगे. उनकी इस यात्रा से राम मंदिर निर्माण का मुद्दा एक बार फिर गरमाने की उम्मीद है. बता दें कि लोकसभा चुनाव के बाद उद्धव ठाकरे का यह पहला अयोध्या दौरा है. इससे पहले वह पिछले साल नवंबर के महीने में यहां की यात्रा पर आए थे. वहीं, यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि राम मंदिर के निर्माण में कोई संशय नहीं है और यह अवश्य बनेगा. उन्होंने कहा कि जरूरी हुआ तो कानून बनाकर मंदिर का निर्माण किया जाएगा.

शिवसेना नेता संजय राउत ने शनिवार को कहा था कि पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे पिछले साल नवंबर में किया गया वादा पूरा कर रहे हैं कि वह चुनाव बाद यहां फिर आएंगे. उन्होंने रामलला को राजनीति का नहीं बल्कि आस्था का विषय बताया.

चुनाव के नजरिए से नहीं देखा जाए इस यात्रा को
शिवसेना ने पार्टी अध्यक्ष और सांसदों की इस अयोध्या यात्रा के बारे में इससे पहले भी बताया था. वहीं, शिवसेना चीफ की यात्रा पर पार्टी नेता अनिल सिंह का कहना है कि इससे चुनाव के नजरिए से नहीं देखा जाना चाहिए और यह बिल्कुल आस्था और विश्वास का मामला है.

शिवसेना नेता ने की थी इस दौरे को लेकर सीएम योगी से मुलाकात
पार्टी नेता अनिल सिंह ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे अनेक धार्मिक स्थानों पर गए और अब चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने के बाद वह फिर से इन जगहों पर पूजा-पाठ के लिए जा रहे हैं. इससे पहले पार्टी चीफ के अयोध्या दौरे से पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने यूपी के सीएम से मुलाकात की थी. इस मुलाकात के बाद संजय राउत ने कहा था कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने उद्धव ठाकरे की यात्रा का स्वागत किया है.