चीन के बाद जापान में भी बुधवार को भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए. इसके बाद स्थानीय मौसम विभाग ने देश में सुनामी की चेतावनी जारी की है. अधिकारियों ने कहा कि समुद्र में चार फीट ऊंची लहरें उठ सकती है. जापान के मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.8 थी. भूकंप का केंद्र यमागाता था. ये इलाका सकाता शहर से 50 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम में है.

रिपोर्ट के मुताबिक भूकंप का केंद्र जमीन से 10 किलोमीटर नीचे था. एजेंसियों ने उत्तर पश्चिम समुद्र तट यमागाटा, निगाटा और इशीकावा में 1 मीटर ऊंचे सुनामी की चेतावनी दी है. समाचार एजेंसी ब्लूमबर्ग ने बताया है कि सुनामी की आशंका को देखते हुए दो बुलेट ट्रेन की सेवाएं ठप कर दी गई है.

चीन में भूकंप से 13 मरे
बता दें कि चीन के सिचुआन प्रांत में सोमवार रात आए भूकंप में अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि और 199 लोग घायल हैं. चीन की रेस्क्यू एजेंसियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. स्थानीय समाचार एजेंसियों के मुताबिक चेंगनिंग काउंटी में रात 10.55 बजे सोमवार को भूंकप आया था और रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 6.0 थी. चीन की समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को शाम 4 बजे तक मलबे में फंसे 20 लोगों को बचाया गया और 731 लोगों को निकाला गया.

राहत और बचाव एजेंसियों का ऑपरेशन जारी है. इसके साथ ही अग्निशमन कार्यकर्ता भूंकप प्रभावित दूरदराज इलाकों में बचाव और तलाशी अभियान के लिए पहुंच रहे हैं.

चाइना अर्थक्वेक एडमिनिस्ट्रेशन ने भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में नुकसान के आकलन के लिए 80 लोगों को तैनात किया है. चीन की सरकारी सेवा के मुताबिक भूकंप से 142,832 लोग प्रभावित हैं और 73 घर तबाह हुए हैं.

इस बीच नेशनल फूड एंड स्ट्रेटजिक रिजर्वस एडमिनिस्ट्रेशन मंत्रालय ने 5,000 तंबू, 10,000 फोल्डिंग बेड और 20,000 रजाई भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में भेजा है.