भोपाल में पुलिस हिरासत में मौत के मामले कम ही हुए हैं। बीआरटी कॉरिडोर में कार टकराने के बाद बैरागढ़ पुलिस इस कदर आपा खो बैठी कि दो युवकों को घसीट-घसीट के मारा। इनमें से एक की मौत हो गई। पुलिस की अमानवीयता उजागर करने वाली इस हरकत को अखबार ने यहां भरपूर लीड बनाया। सिटी पेज पे भी पुलिस बर्बरता की पूरी दास्तान करीने से मौजूद है। शिवम ने अस्पताल ले जाते हुए अपने दोस्त को बोला था कि उसे बहुत मारा गया है। हरिभूमि व्यू में पुलिस समीक्षा पे सवाल उठाए हैं। इस घटना के दोषियों को सजा मिलती है या क्लीनचिट ये देखने वाली बात होगी।