सिडनीः ऑस्ट्रेलिया के राष्ट्रीय प्रसारक ने अपने कार्यालयों में पुलिस छापे की कार्रवाई को सोमवार को अदालत में चुनौती दी और इस विवादास्पद कार्रवाई के दौरान जब्त की गई फाइलों की वापसी की मांग की.

ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (एबीसी) ने जब्त की गई फाइलों का इस्तेमाल करने से पुलिस को रोके जाने का आदेश दिये जाने की भी मांग की. इन फाइलों में अफगानिस्तान में ऑस्ट्रेलियाई विशेष बलों द्वारा युद्ध अपराधों पर दो वर्ष पुरानी जांच रिपोर्ट है.

ऑस्ट्रेलियाई संघीय पुलिस (एएफपी) के एजेंटों ने गत पांच जून को सिडनी में एबीसी के मुख्यालय में छापे की कार्रवाई की थी. यह कार्रवाई एक सरकारी व्हिसल ब्लोअर द्वारा तथाकथित ‘‘अफगान फाइलों’’ के लीक होने को लेकर की गई थी.

एएफपी द्वारा कैनबरा की एक पत्रकार के घर पर छापा मारने और गुप्त सरकारी योजनाओं पर लगभग एक साल पुराने लेख पर फाइलें और कंप्यूटर उपकरण जब्त करने के एक दिन बाद इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया.

रूपर्ट मर्डोक के स्वामित्व वाली मीडिया कंपनी न्यूज कॉर्प ने कैनबरा संवाददाता को नियुक्त किया था. न्यूज कॉर्प ने सोमवार को कहा कि उनके (कैनबरा संवाददाता के) घर पर एएफपी के छापे की कार्रवाई को भी कानूनी चुनौती दिये जाने की तैयारी की जा रही है.