नई दिल्ली: पांच बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है. ऑस्ट्रेलिया ने मंगलवार को इंग्लैंड को हराकर ना सिर्फ उसकी मुश्किलें बढ़ा दीं, बल्कि सेमीफाइनल की रेस को और रोचक भी बना दिया. अब मेजबान इंग्लैंड के विश्व कप में सिर्फ दो मैच बचे हैं. अगर वह सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की करना चाहता है तो उसे ये दोनों मैच जीतने होंगे. एक भी मैच हारने पर वह दूसरी टीमों की हार-जीत के समीकरण में उलझ जाएगा.

गत चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने मंगलवार को खेले गए विश्व कप के मुकाबल में इंग्लैंड को 64 रन से शिकस्त दी. उसने पहले बैटिंग करते हुए सात विकेट पर 285 रन बनाए. कप्तान एरॉन फिंच ने शतक बनाया. इसके जवाब में इंग्लैंड की शुरुआत खराब रही. उसने शून्य के स्कोर पर पहला विकेट गंवाया और 221 रन पर ऑलआउट हो गया.

ऑस्ट्रेलिया की यह सात मैचों में छठी जीत है. इसके साथ ही वह 12 अंकों के साथ प्वाइंट टेबल में टॉप पर पहुंच गया है. 12 अंक होने के साथ ही उसके सेमीफाइनल खेलने की गारंटी भी हो गई है. न्यूजीलैंड 11 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर है. भारत (9) तीसरे और इंग्लैंड (8) चौथे नंबर पर है. प्वाइंट टेबल में दूसरे और तीसरे नंबर की टीमों (न्यूजीलैंड और भारत) का सेमीफाइनल खेलना तय लग रहा है. लेकिन इंग्लैंड मुश्किल में घिर गया है. मेजबान इंग्लैंड को सेमीफाइनल की रेस में मुख्य रूप से एशियन टीमों से चुनौती मिल रही है.
 
एशियन टीमों और इंग्लैंड के समीकरण को इस तरह समझें. इंग्लैंड के सात मैचों से आठ अंक हैं. अब अगर वह एक मैच हार जाए तो उसके अधिकतम 10 अंक होंगे. इंग्लैंड को अभी भारत और न्यूजीलैंड से मैच खेलने हैं. माना जा रहा है कि उसे एशियन टीम यानी भारत से खतरा है. भारत और न्यूजीलैंड दोनों ही टीमें टूर्नामेंट में अजेय हैं.

पाक, बांग्लादेश और श्रीलंका की उम्मीदें बढ़ीं
अगर इंग्लैंड के 10 अंक रहते हैं तो उसे सेमीफाइनल की रेस में तीन एशियन टीमों बांग्लादेश, पाकिस्तान और श्रीलंका से चुनौती मिलेगी. बांग्लादेश के अभी दो मैच बाकी हैं. अगर वह दोनों मैच जीत लेता है तो उसके 11 अंक हो जाएंगे. इसी तरह पाकिस्तान के अभी तीन मैच बाकी हैं. अगर वह तीनों मैच जीते तो वह 11 अंक तक पहुंच जाएगा. श्रीलंका भी इस रेस में है. अगर उसने अपने बाकी तीनों मैच जीते तो उसके 12 अंक हो जाएंगे. यानी, इंग्लैंड की हार से इन तीनों एशियाई टीमों की सेमीफाइनल की उम्मीद मजबूत हो गई है.