सियोलः दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेइ इन ने कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच तीसरी शिखर वार्ता की संभावनाएं खोजने के लिए दोनों देशों के अधिकारी खुफिया बातचीत में जुटे हुए हैं। शिखर वार्ता का उद्देश्य उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों के जखीरे का भविष्य तय करना है।

इससे पहले, ट्रंप और किम के बीच चार महीने पहले हनोई में दूसरी वार्ता हुई थी लेकिन यह बिना किसी समझौते के समाप्त हो गई थी। हनोई वार्ता खत्म होने के बाद से वाशिंगटन और प्योंगयांग के बीच कोई सार्वजनिक बैठक नहीं हुई है लेकिन ट्रंप और किम के बीच हाल में निजी पत्रों के आदान प्रदान के बाद से अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच संवाद फिर से शुरू होने की संभावनाएं बढी हैं।

दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति जेइ इन ने मंगलवार को एक सवाल के जवाब में कहा कि ट्रंप और किम की ‘‘बातचीत में शामिल होने की इच्छा खत्म नहीं हुई है'' और उनके बीच हाल में पत्रों का आदान प्रदान यह साबित करता है। इस बीच, एएफपी की खबर में कहा गया कि उत्तर कोरिया ने बुधवार को परमाणु संबंधी बातचीत में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को ‘‘बाधा'' करार दिया। दरअसल, राष्ट्रपति ट्रंप इस सप्ताहांत पर दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति जेई इन से मुलाकात करने के लिए सियोल जाने वाले हैं। उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने ट्रंप के विदेश मंत्री की आलोचना करते हुए पोम्पियो के हालिया बयानों की निंदा की।