देश के कई हिस्सों में बारिश हो रही है. वहीं, गुजरात में मानसून की पहली बारिश में विश्व की सबसे उंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के व्यूइंग गैलरी के भीतर पानी भर गया. बता दें कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को बनाने में सरकार ने 3,000 करोड़ रुपये खर्च किए, लेकिन मानसून की पहली बारिश में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के व्यूइंग गैलरी के भीतर बारिश का पानी भर गया. स्टैच्यू में बनी व्यूइंग गैलरी, और दूसरे हिस्से से बारिश का पानी टपक रहा है.

व्यूइंग गैलरी का हाल ये है कि बारिश का पानी इतना आ गया कि लोग गैलरी में खड़े भी नहीं हो पा रहे थे. नर्मदा जिले में अब तक 2 इंच बारिश हुई है, लेकिन पहली ही बारिश में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के अंदर तक पानी भर गया.

व्यूइंग गैलरी तक पानी आने के बाद स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के सीईओ आईके पटेल ने वहां का जायजा लिया. पटेल ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का पूरा ब्यौरा लिया, लेकिन स्टैच्यू को बनाने में खुद की कमियों को नजर अंदाज करते हुए आईके पटेल ने कहा कि व्यूइंग गैलरी की डिजाइन ही कुछ ऐसी बनाई गई है कि लोग यहां के मौसम का मजा ले पाए, लेकिन व्यूइंग गैलरी के अलावा स्टैच्यू के ऊपरी हिस्से स्टैच्यू की ऊपरी परत से भी कई जगह बारिश का पानी टपक रहा है. हालांकि प्रशासन की ओर से अब प्रयास किया जा रहा कि पानी को अंदर तक आने से कैसे रोका जाए.

गौरतलब है कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के अंदर लिफ्ट से लेकर सारी सुविधाएं दी गई हैं, लेकिन प्रतिमा बनाते समय बारिश का पानी गैलरी में आ रहा है. सरकार ने इस प्रतिमा को तीन हजार करोड़ की लागत से बनाया है, लेकिन इसकी पोल पहली ही बारिश में खुल गई.