लंदन: विंबलडन का कोर्ट और आमने-सामने रोजर फेडरर और राफेल नडाल हों तो क्या कहने! दुनिया के तमाम टेनिसप्रेमियों की तरह अगर आप भी इस ड्रीम मुकाबले के दीवाने हैं तो वह वक्त आ गया है, जिसका आप इंतजार करते हैं. जी हां, साल के तीसरे ग्रैंडस्लैम विंबलडन का ड्रीम सेमीफाइनल तय हो गया है. इसमें स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर और स्पेन के राफेल नडाल दो-दो हाथ करेंगे. फेडरर को अपने 21वें ग्रैंडस्लैम खिताब की तलाश है. नडाल अब तक 18 ग्रैंडस्लैम टाइटल जीत चुके हैं.

दूसरी वरीयता प्राप्त रोजर फेडरर ने बुधवार को एक कड़े क्वार्टर फाइनल मुकाबले में जापान के केई निशिकोरी को 4-6, 6-1, 6-4, 6-4 से मात दी. ग्रास कोर्ट पर खेले जाने वाले विंबलडन में फेडरर की यह 100वीं जीत है. उन्होंने अपने करियर में अधिकतर मैच इसी ग्रैंडस्लैम में जीते हैं.  

तीसरी वरीयता प्राप्त राफेल नडाल को भी क्वार्टर फाइनल जीतने के लिए कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. अमेरिका के सैम क्वेरी ने उन्हें पहले सेट में कड़ी टक्कर दी. हालांकि, नडाल ने उन्हें उलटफेर करने का मौका नहीं दिया और कड़े मुकाबले में 7-5, 6-2, 6-2 से मैच जीत लिया.

विंबलडन में 2008 के बाद यह पहला मौका है जब सिंगल्स में रोजर फेडरर और राफेल नडाल का सामना होगा. इस साल के दूसरे ग्रैंडस्लैम फ्रेंच ओपन में भी इन दोनों खिलाड़ियों के बीच मुकाबला हुआ था, जिसमें नडाल ने बाजी मारी थी. फ्रेंच ओपन क्ले कोर्ट पर खेला जाता है और नडाल इसके सुपरस्टार हैं. वे फ्रेंच ओपन 12 बार जीत चुके हैं.

रोजर फेडरर की बादशाहत ग्रासकोर्ट पर देखने को मिलती रही है. वे अब तक आठ बार विंबलडन खिताब जीत चुके हैं. वह 2006 और 2007 के फाइनल में नडाल को मात दे चुके हैं. आखिरी बार जब इस टूर्नामेंट में ये दोनों खिलाड़ी भिड़े थे तब नडाल ने 6-4, 6-4, 6-7 (5-7), 6-7 (8-10), 9-7 से जीत दर्ज की थी.

फेडरर या नडाल का फाइनल में सर्बिया के नोवाक जोकोविच से सामना हो सकता है. टॉप सीड जोकोविच ने क्वार्टर फाइनल में डेविड गोफिन को 6-4, 6-0, 6-2 से हराया. जोकोविच अब तक 15 ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुके हैं. वे पुरुष सिंगल्स में सबसे अधिक ग्रैंडस्लैम जीतने के मामले में रोजर फेडरर और राफेल नडाल के बाद तीसरे नंबर पर हैं.