जयपुर : प्रदेश के सीएम अशोक गहलोत ने किसान फसली ऋण वितरण कार्यक्रम का गुरुवार को जयपुर के बिरला ऑडिटोरियम में  शुरुआत की. इस दौरान गहलोत ने कहा कि किसानों के साथ उनकी सरकार हमेशा खड़ी है. इसलिए हमारी सरकार ने बिना ब्याज किसानों को कर्ज देने का काम किया है.

कार्यक्रम के दौरान सीएम ने सहकारी क्षेत्र के 700 नए एटीएम, सहकारी मोबाइल एटीएम वैन की शुरूआत की. सरकार की किसान फसली ऋण योजना से प्रदेश के 25 लाख से ज्यादा किसानों को 1.50 लाख तक का ऋण मिल सकेगा. सबसे बड़ी बात ये है देश में पहली बार किसानों को ऑनलाइन ऋण वितरित किया जा रहा है. वैसे तो अंतराष्ट्रीय सहकारिता दिवस से किसानों को ऋण वितरण की प्रक्रिया की शुरूआत हुई थी, लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार इस योजना का विधिवत रूप से शुभारंभ किया.

कार्यक्रम के दौरान सीएम गहलोत का कहना था कि महाराष्ट्र की तर्ज पर राजस्थान के कॉपरेटिव संस्थाओं को भी सक्षम बनाया जाए, ताकि प्रदेश के किसान खुद सक्षम हो सके. उनका कहना था कि आईटी की क्रांति के कारण राजस्थान आगे बढ़ा है. जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे, तब वे कहा करते थे कि 21वीं सदी में सबकुछ बदल जाएगा. अब मोबाइल फोन के माध्यम से हर व्यक्ति काम करवा सकता है. जिससे गांव ढाणी में बैठा ग्रामीण भी आसानी से काम करवा सकता है.

कार्यक्रम के दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि जल्द ही प्रदेश में खेती आधारित उद्योग लगाए जाएंगे. जिसके लिए सरकार साथ देगी. गहलोत ने कहा कि क्षेत्रफल के अनुसार देश के सबसे बड़ा राज्य राजस्थान में पानी में पानी को बचाना सबसे बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रगत बैंकों से प्रदेश के जिन किसानों ने लोन ले रखे हैं. वो केंद्र सरकार के अधीन आते है, उसके लिए भी सरकार प्रयास कर रही है. गहलोत का मानना है कि जैसे उद्योगपति के साथ ऋण में बैंक सेटलमेंट करती है. उसी तरह किसानों के साथ में भी बैंक सेटलमेंट करे.

प्रदेश में व्याप्त यूरिया किल्लत पर गहलोत ने कहा कि सरकार इसकी किल्लत को दूर करने का प्रयास कर रही है. जिसका परिणाम जल्द ही अच्छा होगा. गहलोत ने कहा कि पिछली सरकार में यूरिया की किल्लत रही है. लेकिन लेकिन अब किसानों को यूरिया की किल्लत नहीं होगी.

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मौजूद लोगों से शिक्षा और बच्चो को पढ़ाने लिखाने पर जोर देने की बात कही. उन्होंने प्रदेश के हर पंचायत में नंदी गौशाला खोलने की बात कही. कार्यक्रम के दौरान मौजूद सहकारिता मंत्री सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने कहा कि गहलोत सरकार ने सत्ता संभालने के साथ 48 घंटे में ऋण माफी का काम किया. जबकि भाजपा सरकार में ऋण वितरण के समय हुए घपले सामने आये.

आंजना ने कहा कि जो पात्र(किसान) थे उनके खाते में ऋण का पैसा नही पहुंचा. हमारी सरकार ने पूरी पारदर्शिता के साथ ऋण दिया है. आंजना ने कहा कि आधार सत्यपान के बाद ही प्रदेश सरकार ऋण दे रही है और अब आज से ऑनलाइन ऋण का काम शुरू हुआ.

उन्होंने कहा कि 31 अगस्त तक ऋण वितरण का काम पूरा हो जाएगा. जिसके लिए उन्होंने माइक्रो एटीएम की संख्या बढ़ाने की मांग रखी. उन्होंने कहा कि 8 माइक्रो एटीएम से पूरा राजस्थान कवर नहीं हो सकता. इसलिए माइक्रो एटीएम को बढ़ाने की मंजूरी दी जाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश के 21 लाख किसानों का ऋण सरकार ने माफ किया.