नई दिल्ली: एयरफोर्स के वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने कहा है कि एक बार जब एसयू-30एमकेआई और राफेल एक साथ काम करना शुरू करेंगे तो यह हमारे विरोधियों के खिलाफ एक शक्तिशाली संयोजन होगा।

IAF Vice Chief Air Marshal RKS Bhadauria: In terms of technology & weapons Rafale has brought in, it will again be a game changer for IAF from our planning perspective, point of view of offensive missions & planning the kind of war we want to conduct in the coming years. https://t.co/x5Z8wDZOYO

— ANI (@ANI) July 11, 2019

IAF Vice Chief Air Marshal RKS Bhadauria: It was a very good experience, we'll have many lessons to take home in terms of how to best utilize Rafale once it is inducted into our Air Force, & how the combination can be with Su-30, another potent & important fleet in our Air Force. pic.twitter.com/DIvp0FlBgh

— ANI (@ANI) July 11, 2019

France: Indian Air Force Vice Chief Air Marshal RKS Bhadauria takes a sortie on Rafale aircraft at French Air Force’s Mont de Marsan air base. pic.twitter.com/cqg1EBGWAJ

— ANI (@ANI) July 11, 2019

#WATCH France: Indian Air Force Vice Chief Air Marshal RKS Bhadauria takes a sortie on Rafale aircraft at French Air Force’s Mont de Marsan air base. pic.twitter.com/weLdlHrlLJ

— ANI (@ANI) July 11, 2019

भारतीय वायुसेना के 120 योद्धाओं की टुकड़ी फ्रांस पहुंची है। इनमें सुखोई 30 एमकेआई विमान, सी17 ग्लोबमास्टर मालवाहक विमान और आईएल 78 ईधन भरने वाले विमान शामिल हैं। गरुड़ युद्धाभ्यास के दौरान भारतीय वायुसेना के उप वायुसेना प्रमुख एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने खुद राफेल लड़ाकू विमान उड़ाया। बता दें कि एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया राफेल लड़ाकू विमान खरीद टीम के चेयरमैन रहे हैं।

वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने कहा कि राफेल लड़ाकू विमान दुनिया का बेहतरीन विमान है। इसके आने से भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी। सुखोई और राफेल की जोड़ी की ताकत के आगे पाकिस्तान और चीन अब भारत के खिलाफ कोई नापाक हरकत नहीं कर पाएंगे।

बता दें कि फ्रांसीसी वायुसेना राफेल, अल्फा जेट, मिराज 2000, C135, E3F, C130  और कासा जैसे विमानों के साथ भारतीय वायुसेना की मेजबानी कर रही है। यह अभ्यास भारतीय वायुसेना पायलट और कर्मियों के लिए राफेल जेट विमानों के बारे में ज्यादा जानने का अवसर दे रहा है। गौरतलब है कि बालकोट हवाई हमले के बाद वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने कहा था कि अगर हमारे पास राफेल लड़ाकू विमान होता तो नतीजे कुछ और होते. ऐसे में अब आने वाले दिनों में सुखोई और राफेल लड़ाकू विमान की जोड़ी दुश्मन पर कहर बरपाएगी।