नई दिल्ली: राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने अपने आंकड़े जारी कर दिए हैं. एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में भारत में करीब 28 हजार लोगों की हत्याएं हुई हैं. आंकड़े के मुताबिक, हत्या, बलात्कार, दहेज हत्या और अपहरण जैसे मामलों में उत्तर प्रदेश नंबर वन है. यूपी में मार्च 2017 से योगी आदित्यनाथ की सरकार है. इतना ही नहीं एनसीआरबी की रिपोर्ट में सामने आया है कि देश में महिलाओं के खिलाफ अपराध में भी बढ़ोत्तरी हुई है.

महिलाओं के खिलाफ अपराध
आंकड़ों के मुताबिक देश भर में साल 2017 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3 लाख 59 हजार 849 मामले दर्ज किए गए. लगातार तीन साल में बढोत्तरी हुई है.

2015 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3 लाख 29 हजार 243 मामले दर्ज किए गए थे और 2016 में ये आंकड़ा 3 लाख 38 हजार 954 था.

महिलाओं के खिलाफ अपराध के दर्ज मामलों में हत्या, बलात्कार, दहेज हत्या, आत्महत्या के लिए उकसाना, एसिड हमले, महिलाओं के खिलाफ क्रूरता और अपहरण शामिल.

किस राज्य में कितने मामले दर्ज हुए?

  • उत्तर प्रदेश में 56 हजार 11
  • महाराष्ट्र में 31 हजार 979
  • पश्चिम बंगाल में 30 हजार 992
  • मध्य प्रदेश में 29 हजार 778
  • राजस्थान में 25 हजार 993
  • असम में 23 हजार 082 मामले दर्ज किए गए

हत्याएं
आंकड़े के मुताबिक, साल 2017 में देश भर में संज्ञेय अपराध के 50 लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए गए. इस तरह 2016 में 48 लाख दर्ज एफआईआर की तुलना में 2017 में 3.6 फीसदी की बढ़ोतरी हुई.

एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक, 2017 में हत्या के 28 हजार 653 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2016 में 30450 मामले सामने आए थे. साल 2017 में हत्या के मामलों में 5.9 फीसदी की गिरावट आई.

रिपोर्ट के मुताबिक, हत्या के अधिकतर मामले में ‘विवाद’ (7 हजार 898) एक बड़ा कारण था. इसके बाद ‘निजी रंजिश’ या ‘दुश्मनी’ (4 हजार 660) और ‘फायदे’ (2 हजार 103) के लिए भी हत्याएं हुईं.

अपहरण-
साल 2017 में अपहरण के मामलों में 9 फीसदी की बढोतरी दर्ज की गई. उससे पिछले साल 88 हजार 8 मामले दर्ज किए गए थे, जबकि 2017 में अपहरण के 95 हजार 893 मामले दर्ज किए गए थे.

  • 2017 में अपराध के मामलों में 3 फीसदी इजाफा हुआ.
  • सबसे ज्यादा अपहरण के मामले 9 फीसदी रहे.
  • हत्या के मामलों में 5.9 फीसदी की कमी आई है.
  • करीब एक साल की देरी के बाद आंकड़े जारी किए गए.