कोरोना वायरस के मामले हिंदुस्तान में बढ़ते जा रहे हैं. तबलीगी जमात के केस आने के बाद उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं. दिल्ली के तबलीगी जमात के मरकज से लौटे लोगों की तलाश में प्रशासन तेजी से लगा हुआ है और उन्हें ढूंढकर निकाला भी जा रहा है. प्रशासन की सख्ती का नतीजा है कि गाजियाबाद में जमात से लौटे तीन युवक खुद ही पुलिस के पास पहुंचे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल भेज दिया गया है.

उत्तर प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन की मुहिम अब रंग दिखाने लगी है. गाजियाबाद में तबलीगी जमात से लौटे तीन युवक खुद ही पुलिस चौकी पहुंच गए. ये तीन युवक बिजनौर जमात में गए थे, जहां से गाजियाबाद लौटे थे. हालांकि इन तीनों युवकों में कोरोना संक्रमण के किसी तरह के कोई लक्षण नहीं हैं. इसके बाद भी गाजियाबाद के विजयनगर बाईपास पुलिस चौकी ने एम्बुलेंस मंगवाकर इन तीनों युवकों को जिला अस्पताल भिजवाया है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में अभी तक कोरोना वायरस के कुल सवा तीन सौ से ज्यादा मामले सामने आए हैं और तीन लोगों की मौत हो भी चुकी है. इसमें से आधे से ज्यादा केस तबलीगी जमात से जुड़े हो लोगों के हैं. कोरोना वायरस उत्तर प्रदेश के करीब 37 जिलों तक अपने पांव पसार चुका है. सूबे में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले मेरठ मंडल में सामने आए हैं, जिनमें नोएडा जिले में सबसे ज्यादा केस हैं.

यूपी के आगरा में अभी मिले 52 मरीजों में 32 तबलीगी जमात के हैं. इसके अलावा लखनऊ में 22 में से 12, गाजियाबाद में 23 में से 14, लखीमपुरखीरी में चार में से तीन, सीतापुर में सभी आठ, मथुरा में दो में से एक, कानपुर नगर में आठ में से सात, वाराणसी में सात में से चार, शामली में 17 में से 16, जौनपुर में तीन में से दो और बागपत में दो में से एक मरीज तबलीगी जमात से जुड़े हुए पाए गए हैं.

मेरठ में 33 में से 13, गाजीपुर में सभी 5 ,हापुड़ में सभी 3 ,सहारनपुर में सभी 17, बांदा में दो, महाराजगंज में सभी छह, हाथरस में सभी चार, मिर्जापुर में दो, रायबरेली में दो, औरैया और बाराबंकी में एक-एक, गाजीपुर में सभी पांच, आजमगढ़ में सभी तीन, फिरोजाबाद में सभी चार, हरदोई में एक, प्रतापगढ़ में सभी तीन, कौशांबी में एक और बदायूं में एक मरीज तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं.

हालांकि, नोएडा 60 के करीब केस सामने आ चुके हैं. बरेली में 6, बुलंदशहर में 3, बस्ती में पांच, पीलीभीत में 2, कौशांबी में एक और मुरादाबाद में दो कोरोना मरीज मिले हैं और इसमें एक भी तबलीगी जमात का नहीं है.